रिजर्व बैंक ने प्रमोटर स्टेक होल्डिंग को बढ़ाया

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने लंबे समय में निजी बैंकों में प्रमोटर की हिस्सेदारी 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 26 प्रतिशत कर दी है, जो कि वर्तमान 15 प्रतिशत की सीमा से ऊपर है।

आरबीआई ने शुक्रवार को घोषणा कि की उसने आंतरिक कार्य समूह द्वारा की गई 33 सिफारिशों में से 21 को मंजूरी दे दी है, जिसका गठन निजी क्षेत्र के बैंक स्वामित्व और कॉर्पोरेट संरचना पर दिशानिर्देशों का मूल्यांकन करने के लिए किया गया था। केंद्रीय बैंक ने जहां आवश्यक समझा, वहां कुछ छोटे समायोजन किए हैं।

आरबीआई ने एक बयान में कहा "यह शर्त सभी प्रकार के प्रमोटरों के लिए एक समान होनी चाहिए और यह इंगित नहीं करेगी कि प्रमोटर जिन्होंने पहले ही बैंक की पेड-अप वोटिंग इक्विटी शेयर पूंजी के 26 प्रतिशत से नीचे अपनी हिस्सेदारी को कम कर दिया है, उन्हें इसे 26 प्रतिशत तक बढ़ाने के लिए अधिकृत नहीं किया जाएगा।" प्रवर्तकों के पास विकल्प है कि यदि वे चाहें तो पांच साल की लॉक-इन अवधि के बाद किसी भी समय अपने हिस्से को 26 प्रतिशत से कम कर सकते हैं।

आरबीआई के आंतरिक कार्य समूह ने प्रमोटरों को पहले पांच वर्षों के लिए कंपनी का जो भी प्रतिशत रखने की अनुमति दी है, फिर इसे 15 वर्षों के बाद 26 प्रतिशत पर रखने की सिफारिश की है।

सामने आ ही गई विक्की-कैटरीना की शादी की तारीख!

देश के सबसे गरीब राज्यों की सूची में शामिल है ये राज्य

MSP की गारंटी देने वाला कानून बनाना संभव नहीं है: CM मनोहर लाल खट्टर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -