रिजर्व बैंक ने नहीं बदली नीतिगत ब्याज दर

नई दिल्ली : निकट भविष्य में महंगाई बढ़ने की आशंका को देखते हुए रिजर्व बैंक ने नीतिगत ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया है. केंद्रीय बैंक ने रेपो दर को छह फीसद पर पूर्ववत रखा है.रिजर्व बैंक के इस फैसले से बैंकों के सामने ब्याज दरों में कमी लाने की गुंजाइश अब नहीं रही है.

आपको बता दें कि रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल की अध्यक्षता में छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने बुधवार को अपनी द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा बैठक में वर्ष की दूसरी छमाही के लिए मुद्रास्फीति का अनुमान पहले के 4.2-4.6 फीसद से बढ़ाकर 4.3- 4.7 फीसद कर दिया. हालांकि केंद्रीय बैंक ने 2017-18 के लिए आर्थिक वृद्धि के अनुमान को अभी 6.7 फीसद पर पूर्ववत रखा है.

उल्लेखनीय है कि रिजर्व बैंक के अनुसार चालू वित्त वर्ष के उत्तरार्द्ध में खुदरा महंगाई 4.3 से 4.7 फीसद के बीच रहने का अनुमान लगाया है. केंद्रीय बैंक ने कहा कि उसका लक्ष्य खुदरा मुद्रास्फीति दर को बीच की अवधि में चार फीसद के आसपास बनाए रखना है यह अधिकतम दो फीसद ऊपर या नीचे तक जा सकती है.

रिजर्व बैंक ने सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों के बाद सरकारी कर्मचारियों के वेतन भत्ते  और द्विमासिक मौद्रिक नीति में आवास किराया भत्ते (एचआरए) में वृद्धि से मुद्रास्फीति पर 0.35 फीसद तक का प्रभाव पड़ने पर विचार किया, क्योंकि इस वृद्धि का असर दिसंबर में अपने उच्चतम स्तर पर होने की आशंका है . समिति की अगली बैठक 6-7 फरवरी को होगी.

यह भी देखें

यहां निवेश करने से दुगुना होगा पैसा

जेट एयरवेज ने अंतरराष्ट्रीय टिकट किये सस्ते

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -