कोरोना काल में चरमराती अर्थव्यवस्था पर RBI गवर्नर शक्तिकांत दास का बड़ा बयान

कोरोना काल में चरमराती अर्थव्यवस्था पर RBI गवर्नर शक्तिकांत दास का बड़ा बयान

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कोरोना वायरस महामारी के कारण चरमरा रही इकॉनमी में गतिविधियां बढ़ाने के लिए मूलभूत सुविधाओं वाली परियोजनाओं में निवेश बढ़ाने पर बल दिया है. भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के एक कार्यक्रम में उद्योग जगत को संबोधित करते हुए RBI गवर्नर ने कहा है कि अवसंरचना क्षेत्र के विकास में व्यापक निवेश की आवश्यकता है इसमें सार्वजनिक एवं प्राइवेट दोनों क्षेत्र को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी.

RBI गवर्नर ने कहा कि कृषि क्षेत्र में हाल में उठाये गये सुधार के कदमों से इस क्षेत्र में नए अवसर पैदा हुए हैं. उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र आकर्षण का केन्द्र बनकर सामने आ रहा है. उन्होंने कहा कि भारत को ऐसी नीतियों की जरुरत है, जिससे कि कृषि क्षेत्र की आमदनी में लगातार वृद्धि होती रहे. विदेशी मुद्रा विनिमय दर के संबंध में दास ने कहा है कि इसके लिये रिजर्व बैंक का कोई फिक्स टारगेट नहीं है, किन्तु जब भी इसमें अनावश्यक घटबढ़ होगी रिजर्व बैंक इस पर निगाह रखेगा. 

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने आगे कहा कि वर्ल्ड बैंक की 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक, जीवीसी (ग्लोबल वैल्यू चेन्स) की साझेदारी में 1 फीसदी की वृद्धि से देश की प्रति व्यक्ति आमदनी का स्तर 1 फीसदी से अधिक बढ़ सकता है.

तेलंगाना में सामने आए कोरोना के 1473 नये मामले, बढ़ता ही जा रहा है आंकड़ा

हरे निशान में खुलने के बाद टूटा शेयर बाजार, रिलायंस के शेयरों में तेजी बरक़रार

डीज़ल की लगातार बढ़ती कीमतों पर लगा ब्रेक, पेट्रोल के भी दाम स्थिर