रेलवे की नयी स्कीम, रिजर्वेशन करेगा 'भीम'

रेलवे की नयी स्कीम, रिजर्वेशन करेगा 'भीम'

नई दिल्‍ली : मोदी सरकार की कैशलेस इंडिया योजना के तहत आज से रेलवे ने एक नयी योजना का शुभारम्भ किया है. इस योजना के तहत अब से आप भीम ऐप के जरिये रेलवे टिकट बुक करा सकते हैं. आज से यह सुविधा देश के हर आरक्षण केंद्र पर उपलब्ध होगी. कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस सुविधा को लागू किया गया है.

इस सम्बन्ध में जानकारी देते हुए रेलवे बोर्ड के मेंबर ट्रैफिक मोहम्मद जमशेद ने कहा कि, अभी देश भर में लगभग 3000 से भी ज्यादा रेलवे रिजर्वेशन सेंटर यानी पीआरएस हैं, जिन पर आज से भीम ऐप के जरिये भुगतान किया जा सकेगा. इस बारे में आगे जानकारी देते हुए वे बोले कि, नोटबंदी से पहले तक ऑनलाइन रेलवे रिजर्वेशन 58% तक होता था जो कि, अक्टूबर 2016 के बाद 70% हो गया है. ऑनलाइन टिकिट बुकिंग के लिए ऐप के द्वारा भुगतान करने वालों की संख्या 12% बढ़ी है. ऐसे में भीम ऐप के द्वारा भुगतान की सुविधा से इसमें और इज़ाफ़ा होगा और लोगों को रहत मिलेगी.

रोज के आंकड़ों पर नज़र डालते हुए मोहम्मद जमशेद ने कहा कि देश में रोजाना तकरीबन 15 लाख से भी अधिक टिकिट बुक करवाए जाते हैं. इनमे से करीबन 6 लाख टिकिट पीआरएस काउंटर से बुक किये जाते हैं. हालाँकि इन काउंटर्स पर डेबिट और क्रेडिट कार्ड की सुविधा उपलब्ध है, बावजूद इसके लोग कैश से ही भुगतान करना पसंद कर ते हैं. ऐसे में भीम ऐप से भुगतान करने की फेसिलिटी उपलब्ध कराना कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देना है. इसके अलावा इस ऐप से भुगतान करना काफी सरल और सुरक्षित है. 

रेलवे बोर्ड के अनुसार ऐप से भुगतान करने और पैसे का आदान-प्रदान करने की इस व्यवस्था पर अगले 3 महीने तक कोई भी शुल्क नहीं लिया जाएगा. लेकिन रेलवे मंत्रालय इस पर अपनी नज़र जमाये हुए है और ग्राहकों के फीडबैक पर भी पैनी नज़र रखेगा. अगर इस ऐप से कैशलेस ट्रांजेक्शन को तेज़ी से ग्राहकों का रिस्पॉन्स मिलता है तो यह व्यवस्था आगे भी जारी रहेगी. देश में रोजाना 80 करोड़ रुपये का भुगतान रिजर्वेशन टिकट के लिए किया जाता है जिसमे से 30 करोड़ रुपये का भुगतान आरक्षण खिड़की पर या यूँ कहिये कि नकद भुगतान होता है, बाकी के टिकट ऑनलाइन बुक कराये जाते हैं. ऐसे में भीम ऐप से टिकिट बुक होने पर यह आंकड़ा काफी बढ़ जाएगा.

पीएम मोदी देंगे तेलंगाना को सस्ते सफर की सौगात

एक ट्रेन ने फिर छोड़ी पटरी

डिजिटल ट्रांजिक्शन की ओर, अग्रसर हो रहा है भारत