भारतीय रेलवे ने उठाया बड़ा कदम, अब ट्रेन में किया ये काम तो हो सकती है कार्रवाई

नई दिल्‍ली: ट्रेन में यात्रा कर रहे लोगों की अब रात में नींद ख़राब नहीं होगी. आपके आसपास कोई भी सहयात्री मोबाइल फोन पर तेज आवाज में बात नहीं कर सकेगा, न ही तेज आवाज में म्‍यूजिक सुन सकेगा. लोगों की सुविधा को ध्‍यान में रखते हुए भारतीय रेलवे ने बड़ा निर्णय लिया है. लोगों द्वारा शिकायत करने पर रेलवे ऐसे व्यक्तियों पर कार्रवाई करेगा. इतना ही नहीं ट्रेन स्‍टाफ की जवाबदेही भी निर्धारित की जा सकेगी. इस सिलसिले में रेलवे मंत्रालय ने सभी जोनों को आदेश जारी कर दिया है, जिससे तुरंत प्रभाव से आदेश लागू हो सके.

इसके साथ ही रेलवे मंत्रालय के मुताबिक, अक्सर यात्री शिकायत करते थे कि सह यात्री फ़ोन पर तेज तेज बातें करते हैं, या फिर म्‍यूजिक सुनते हैं. इस प्रकार की भी शिकायत आती थी कि कोच में बैठा कोई ग्रुप रात में जोर जोर से बात कर रहा है. यह भी शिकायत होती आती थी कि रेलवे का स्‍कॉर्ट या फिर मेंटीनेंस स्‍टाफ गश्‍त के चलते तेज तेज बातें करता हुआ निकलता है, जिससे लोगों की नींद खराब होती है. इसके अतिरिक्त रात में लाइट जलाने को लेकर भी झगड़ा होता था, इसकी भी शिकायत रेलवे को प्राप्त होती थी. वही लोगों को होने वाली इस प्रकार की समस्या को ध्‍यान में रखते हुए भारतीय रेलवे ने बड़ा फैसला लेते हुए आदेश जारी कर दिया है. अब कोई भी यात्री इससे जुड़ी शिकायत दर्ज करा सकता है, जिस पर ट्रेन स्‍टाफ तत्‍काल कार्रवाई करेगा. शिकायत का समाधान न होने पर अब रेलवे कर्मियों की जवाबदेही भी तय की जा सकेगी. ये आदेश तत्‍काल प्रभाव से लागू कर दिए गए हैं.

रात 10 बजे  के बाद के लिए ये हैं दिशा-निर्देश:-
- कोई भी यात्री इतनी तेज आवाज में फ़ोन पर बात नहीं करेगा या तेज म्‍यूजिक नहीं सुनेगा, जिससे सहयात्री परेशान हो.
- रात में नाइट लाइट को छोड़कर सभी लाइट बंद करनी हैं, जिससे सहयात्री की इससे नींद डिस्टर्ब न हो.
- ग्रुप में चलने वाले यात्री ट्रेन में देर रात तक अब बातें नहीं कर पाएंगे. सह यात्री द्वारा शिकायत करने पर कार्रवाई की जा सकेगी.
- रात में चेकिंग स्‍टाफ, आरपीएफ, इलेक्ट्रीशियन, कैटरिंग स्‍टाफ तथा मेंटीनेंस स्‍टाफ शांतिपूर्ण तरीके से अपना काम करेंगे, जिससे लोगों को समस्या न हो.
- इसके साथ ही 60 वर्ष से ऊपर के वृद्ध लोगों, दिव्‍यांगजन और अकेली महिलाओं को रेल स्‍टाफ आवश्यकता पड़ने पर तत्‍काल सहायता करेगा.

दिल्ली दंगों में हुई पहली सजा, आरोपी दिनेश को 5 साल की जेल

चीनी सेना ने किया भारतीय किशोर को अगवा, इंडियन आर्मी ने उठाया बड़ा कदम

भारत ने ओडिशा तट से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के नए संस्करण का परीक्षण किया

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -