राहुल ने गुरूद्वारे में टेका मत्था, सिख हिंसा पर दिया ध्यान

बठिंडा : सांसद और कांग्रेस उपाध्यक्ष इन दिनों पंजाब में बिखरी हुई कांग्रेस को तिनका-तिनका कर जोड़ने की तैयारी में हैं। जिसके लिए तरनतारन में गुरूवार को राहुल के पहुंचने के बाद अब वे शुक्रवार को बठिंडा पहुंचे। यहां उन्होंने गुरूद्वारे में प्रार्थना की। गुरूद्वारा तख्त दमदमा साहिब में मत्था टेकने के बाद उन्होंने किसानों से भेंट की और गुरूग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटना का विरोध करने के दौरान पुलिस गोलीबारी में मरने वाले सिख परिवारों से भेंट की। यह भेंट फरीदकोट में हुई।

सिखों के 10 वें गुरू गोबिंद सिंह द्वारा 1705 में धर्मग्रंथ श्री गुरूग्रंथ साहिब का पूर्ण संस्करण तैयार किया गया। मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के दौरे को लेकर कांग्रेस द्वारा कहा गया कि पार्टी के उपाध्यक्ष भूकियांवाला में ऐसे किसान परिवार से मिल सकते हैं जिसने आत्महत्या कर ली थी। वे भूकियांवाला से पैदल यात्रा करते हुए मल्लावाला गांव पहुंचेंगे। इस दौरान वे ग्रामीणों से चर्चा भी करेंगे। 

पंजाब में धान की खरीदी की प्रक्रिया चल रही है। ऐसे में राहुल का ध्यान धान की खरीदी और अनाज मंडियों पर भी पड़ सकता है। उल्लेखनीय है कि राहुल ने पंजाब में घटित हुई सांप्रदायिक हिंसा के लिए अकाली दल को जिम्मेदार ठहराया। मगर राहुल के तरनतारन में दौरे के बाद ही यहां के एक गांव में श्री गुरूग्रंथ साहिब की प्रतियों के फटे हुए पन्ने मिले हैं। जिसके बाद लोगों को रोष फैल गया। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -