पूर्व नियोजित था शिक्षक दिवस का कार्यक्रम

नई दिल्ली:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शिक्षक दिवस के एक दिन पहले देशभर के कुछ विद्यार्थियों से चर्चा की। इस दौरान देशभर के विभिन्न राज्यों से चुनकर पहुंचे विद्यार्थियों ने भी प्रधानमंत्री से मिलने में उत्साह दिखाया। अधिकारियों और विद्यार्थियों ने जिस तरह के प्रश्न किए। विद्यार्थियों को मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट और उनके पहनावे के साथ इन आदतों से जुड़े प्रश्नों को पूछने की अनुमति दी गई। शिक्षक दिवस को लेकर आयोजित किया गया यह कार्यक्रम पूर्व नियोजित था और इसमें सवालों के साथ सबकुछ तय था। इसे सरकार के प्रचारतंत्र के तौर पर भी लिया गया। मिली जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री कार्यालय और मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा इस कार्यक्रम को लेकर विस्तार से तैयारी की गई।

इस दौरान यह सामने आया कि विद्यालय और विद्यार्थियों का चयन मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा किया गया। यही नहीं बच्चों के ड्रेसअप से लेकर बच्चों के मैकअप तक को सुनियोजित किया गया था। बच्चों को अपने बाल ठीक तरह से संवारने की ताकीद भी की गई थी। राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के एक ग्रामीण क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम प्रसारण के लिए जैसे - तैसे इंतजाम किए गए।

दरअसल यहां बैलगाड़ी पर ही टीवी और डिश एंटीना रखकर प्रसारण किया गया तो दर्शकों के तौर पर समीप के ग्रामीण क्षेत्र से बच्चे बुलाए गए। इस कार्यक्रम के दौरान सवाल पूछने वाले बच्चों के प्रश्न बहुत ही रोचक थे। हालांकि ये प्रश्न पहले से ही तैयार किए गए थे। मगर इनमें सरकार के कार्यों और योजनाओं का प्रायोजन झलकता नज़र आया।

एक तरह से सरकार विभिन्न अवसरों पर अपना प्रायोजन करती नज़र आई। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा प्रारंभ किए गए मन की बात कार्यक्रम के दौरान भी सरकार की योजनाओं का प्रचार - प्रसार किया जाता है। ऐसे में कुछ लोगों द्वारा यह भी कहा जा रहा है कि सरकार अपनी योजनाओं के प्रचार में लगी है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -