केरल में चल रही समझौते और कांट्रैक्ट की राजनीति

कासरकोड : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केरल में भाजपा के चुनाव प्रचार में जुटे हैं। आज से 11 मई तक उनकी कई स्थानों पर सभाऐं हैं। ऐसे में उन्होंने कासरकोड क्षेत्र में उपस्थितों को संबोधित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कहा गया कि केरल में यूडीएफ और एलडीएफ की समझौते और कांट्रैक्ट की राजनीति का शासन रहा। दोनों पक्षों ने राज्य के शिक्षित मतदाताओं का अपमान कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुनावी सभा में कहा कि केरल में राजनीति का नया माॅडल प्रस्तुत हुआ है।

यह माॅडल राजनीतिक दलों द्वारा एकदूसरे को बचाने के लिए एक दूसरे के भ्रष्टाचारों पर लीपा-पोती करने के लिए अपनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यूडीएफ और एलडीएफ के मध्य अनुबंध का शासन किया गया है। हालात ये हैं कि सरकारों के बीच 5-5 वर्ष के अनुबंध हो रहे हैं। ये दोनों ही दल केरल के शिक्षित लोगों का अपमान करने में लगे हैं दोनों ही दलों द्वारा तालमेल की राजनीति को समझना आवश्यक है।

केरल में कांग्रेस नेता और माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी कार्यकर्ताओं को दी जाने वाली हिंसा की बात भी वे करते हैं। वे जब भी पश्चिम बंगाल जाते हैं तो यह कहते हैं कि कम्युनिस्ट पार्टी के लोग पश्चिम बंगाल को बचा सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केरल में चुनाव प्रचार किया इस दौरान उन्होंने सवाल उठाए कि आखिर राज्य के शिक्षित लोगों से वे सवाल करते हैं कि क्या दो अलग - अलग भाषाऐं कहने वालों पर विश्वास किया जा सकता है मसला यह नहीं है कि किसकी सत्ता में बहाली होगी बल्कि यह सवाल तो केरल का है कि केरल को कौन बचाएगा। युवाओं के लिए रोजगार जरूरी है और उनके भविष्य को सुरक्षित रखना भी बेहद जरूरी है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -