कश्मीर मुद्दे पर बोले चिदंबरम, कहा- लोकतांत्र की आवाज दबा रही है सरकार

कश्मीर मुद्दे पर बोले चिदंबरम, कहा- लोकतांत्र की आवाज दबा रही है सरकार

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर में पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और नेशनल कांफ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला को नजरबंद किए जाने की कांग्रेस ने कड़ी आलोचना की है. पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि उन्होंने जम्मू कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार द्वारा दुस्साहस पूर्ण कार्रवाई किए जाने की पहले ही चेतावनी दे दी थी. चिदंबरम ने कहा कि लगता है कि केंद्र सरकार अब ऐसा करने पर अड़ गई है. 

उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को आधी रात को अपने ही घरों में नजरबंद कर दिया गया है. कश्मीर में धारा-144 लगा दी गई है, इसके साथ ही वहां के संचार के सभी माध्यमों, मोबाइल, इंटरनेट, ब्रांडबैंड और लैंडलाइन की सेवाओं को स्थगित कर दिया गया है. कांग्रेस के दिग्गज नेता पी चिदंबरम ने कसाहिर मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि कश्मीर के नेताओं की नजरबंदी लोकतांत्रिक आवाज को कुचलने की तरह है.

चिदंबरम ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, "जम्मू कश्मीर के नेताओं को घर में नजरबंद किया जाना, इस बात का संकेत है कि सरकार अपने उद्देश्य को हासिल करने के लिए सभी लोकतांत्रिक मूल्यों और सिद्धांतों को कुचल डालेगी. मैं उनकी नजरबंदी की आलोचना करता हूं." एक अन्य ट्वीट में चिदंबरम ने लिखा है कि 'दिन खत्म होने से पहले ही हमें बता दिया जाएगा कि जम्मू कश्मीर में क्या कुछ गंभीर होने वाला है. मैं प्रतीक्षा कर रहा हूं.' 

केंद्र के खिलाफ एकजुट हुए कश्मीर के राजनितिक दल, करेंगे सरकार का विरोध

शिवसेना ने उठाया जम्मू कश्मीर मुद्दा, कहा- अब आतंकियों के सामने दबने वाली सरकार नहीं रही

पीएम मोदी की कैबिनेट बैठक, जम्मू कश्मीर पर हो सकता है अहम् फैसला