Share:
विपक्षी पार्टी डीएमके और उसके सहयोगी दल कृषि विधेयकों को लेकर कर रहे प्रदर्शन
विपक्षी पार्टी डीएमके और उसके सहयोगी दल कृषि विधेयकों को लेकर कर रहे प्रदर्शन

पूरे भारत में कृषि बिलों को लेकर भारी विरोध प्रदर्शन हुआ हैं। द्रमुक और उसके सहयोगियों ने सोमवार को 28 सितंबर को तमिलनाडु में विरोध प्रदर्शन का मंचन कर केंद्र से संसद में पारित कृषि विधेयकों को वापस लेने का अनुरोध किया । द्रविड़ पार्टी प्रमुख एम के स्टालिन द्वारा यहां द्रमुक मुख्यालय में आयोजित एक बैठक में कहा गया है कि यह प्रदर्शन सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक सरकार को दोषी ठहराने के साथ-साथ इस मामले पर केंद्र को मदद का हाथ दे रहा है । डीएमके और उसके सहयोगियों की बैठक में अपनाए गए एक प्रस्ताव में कहा गया है कि विधेयकों के पारित होने से एक बार फिर गरीब किसानों को दुख की स्थिति में लाने के अलावा ' संघवाद ' पर सवालिया निशान लग गया है ।

प्रस्ताव में जोर देकर कहा गया है कि विधेयकों में कृषि उपज की जमाखोरी की असामाजिक गतिविधि का रास्ता प्रदान किया गया है और बिना विभाजन के ध्वनिमत के माध्यम से राज्यसभा में इसका पारित होना मनमाना था और संसदीय परंपराओं को पराजित किया गया था । अगले सप्ताह के लिए आयोजित विरोध का उद्देश्य केंद्र सरकार से संसद में अपनाए गए विधेयकों को वापस लेने का अनुरोध किया है । प्रस्ताव में कहा गया है, "यह बैठक केंद्र द्वारा पारित कृषि विधेयकों के लिए अपने मजबूत विरोध को रिकॉर्ड करती है जो किसानों, खेत मजदूरों, उपभोक्ताओं और आम जनता के खिलाफ है और जिससे कृषि की प्रगति को झटका लगेगा ।

साथ ही उन्होंने राज्यसभा में विधेयकों को नियमों का उल्लंघन करने और अन्नाद्रमुक द्वारा विधेयकों को समर्थन देने के लिए विधेयकों को पारित करने के लिए केंद्र की निंदा की । प्रस्ताव में दावा किया गया है कि जो विधेयक "स्वतंत्र" कृषि बाजारों में "हस्तक्षेप" पारित किए गए हैं और इसके प्राकृतिक कामकाज को प्रभावित किया है, जिससे ऐसी स्थिति का मार्ग प्रशस्त हुआ है जिसमें न्यूनतम समर्थन मूल्य भी "प्रश्न वाचक चिन्ह" होगा और खाद्य सुरक्षा को भी खतरे में डालने जैसा होगा।

तमिलनाडु सरकार द्वारा राशन दुकानों को लाभ पहुंचाने के लिए लायी जा रही है ये योजना

अवैध खनन रोकने में नाकाम रही गहलोत सरकार, भाजपा नेता राजेंद्र राठौर का आरोप

तमिलनाडु की विशेषज्ञ समिति ने लॉकडाउन प्रतिबंधों को हटाने का किया आग्रह

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -