तमिलनाडु की विशेषज्ञ समिति ने लॉकडाउन प्रतिबंधों को हटाने का किया आग्रह

तमिलनाडु की विशेषज्ञ समिति ने लॉकडाउन प्रतिबंधों को हटाने का किया आग्रह

तमिलनाडु राज्य अब चाहता है कि आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह से पुनर्जीवित हों । तमिलनाडु सरकार द्वारा स्थापित रंगराजन समिति ने लॉकडाउन प्रतिबंधों को पूरी तरह से हटाने और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए पूंजीगत व्यय पर अनुमानित राशि से अधिक 10,000 करोड़ रुपये का योगदान करने की सिफारिश की है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर द्वारा पर्यवेक्षण समिति का गठन मई में राज्य सरकार द्वारा किया गया था ताकि राज्य की अर्थव्यवस्था को कोविड-19 प्रभाव से पुनर्जीवित करने के लिए लघु और मध्यम अवधि के उपाय किए जा सकें ।

रिपोर्ट के अनुसार, समिति ने सोमवार को सीएम एडापदी के पलानीस्वामी के समक्ष अपनी रिपोर्ट पेश की, जिसमें उसने यह भी सुझाव दिया है कि राज्य अर्थव्यवस्था का कायाकल्प करने के लिए बेकार पड़े 3200 करोड़ रुपये के निर्माण क्षेत्र के फंड का इस्तेमाल करे। यह सिफारिश करते हुए कि राज्य सरकार को लॉकडाउन लगाने की तुलना में वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए अन्य तरीके खोजने की जरूरत है, समिति ने कहा कि अगर सिफारिशों का पालन किया जाता है तो राज्य की अर्थव्यवस्था दो महीने में प्री-कोविड स्तर तक पहुंच सकती है । समिति ने तमिलनाडु के लिए 2020-21 वित्त वर्ष के दौरान संभव अधिकतम आर्थिक वृद्धि को 1.71% पर भी हासिल किया।

एक रिपोर्ट के अनुसार, राज्य सरकार द्वारा नवंबर के बाद भी लोगों को मुफ्त चावल देकर अपने राहत उपायों को बनाए रखने की सिफारिश करते हुए समिति ने यह भी कहा कि सरकार महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) की तर्ज पर शहरी क्षेत्रों के लिए भी रोजगार गारंटी योजना लेकर आ सकती है । समिति ने यह भी सिफारिश की कि राज्य सरकार राज्य में स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे के विस्तार और COVID-19 सुविधाओं के लिए 5000 करोड़ रुपये खर्च करे।

अवैध खनन रोकने में नाकाम रही गहलोत सरकार, भाजपा नेता राजेंद्र राठौर का आरोप

कृषि बिल: कांग्रेस MP रविंद्र बिट्टू का आरोप- हम शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे, दिल्ली पुलिस ने पीटा

गैलवान वैली में शहीद हुए सैनिक की पत्नी को मिली नौकरी