लॉकडाउन के दौरान ग्वालियर में दिखी लापरवाही, सड़कों पर उतरे लोग

Mar 26 2020 04:01 PM
लॉकडाउन के दौरान ग्वालियर में दिखी लापरवाही, सड़कों पर उतरे लोग

ग्वालियर: शहर में लॉकडाउन के दौरान कुछ अलग ही नजारा देखने को मिल रहा है. यहाँ पर किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए थी वैसा कुछ बिलकुल भी नहीं है. जिला प्रशासन की लापरवाही यहां के आम लोगों पर भारी पड़ सकती है. शहर में एक कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज मिलने और उसके संपर्क में आए करीब 50 से ज्यादा लोगों के बाद भी यहां लापरवाही का आलम देखा जा रहा है. पहले प्रशासन ने कहा है कि शहर में कर्फ्यू लगा दिया गया है. लेकिन सख्ती से पालन नहीं कराए जाने के वजह से बुधवार शाम से अधिकांश दुकाने खुल गई और बाजार मे भीड़भाड़ बड़ गई. गुरुवार सुबह से ही शहर में ऐसा ही नजारा देखने मिल रहा है. दुकाने खुली हुई हैं और बाजारों में भीड़भाड़ नजर आ रही है. दुकानों के बाहर नगर निगम द्वारा लोगों मे दूरी बनाए रखने के लिए चिह्न बनाए जा रहे हैं. इधर पुलिस लाइन में पुलिस जवानों को मॉक ड्रिल कराई जा रही है.

तीन दिन पहले शहर में खजुराहो से लौटे अभिषेक मिश्रा की कोरोना वायरस पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद पुलिस और प्रशासन ने सख्ती दिखानी शुरू की थी. इस वजह से दो घंटे के भीतर पूरा बाजार बंद हो गया था. और लोग घरों में कैद हो गए थे. मंगलवार को प्रशासन द्वारा कहा गया कि शाम से कर्फ्यू लगा दिया गया है. बुधवार सुबह दोपहर तक बाजार बंद रहे. लेकिन दोपहर बाद अचानक दुकाने खुलने लगी और गुरवार को पूरा बाजार ही खुल गया है. बाजार में अच्छी-खासी भीड़भाड़ देखी जा रही है.

बता दें की चौराहों पर पुलिस तैनात जरूर है लेकिन वो ना तो लोगों को घरों से निकलने से रोक रही है और ना ही दुकानें बंद करवा रही है. जिला प्रशासन से जुड़े सूत्रों का कहना है कि जिले के आला अधिकारी तो खुद और अपने परिवार को तो होम क्वारेंटाइन किए हुए हैं. शहर की जनता का उनका ध्यान नहीं है. लचर प्रशासनिक व्यवस्था का खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ सकता है.

इलाज के दौरान दो संदिग्ध मरीजों की हुई मौत

8.23 करोड़ रुपए की लागत से नेहरू पार्क को किया जाएगा विकसित

आखिर क्यों सरकारी अस्पतालों में वेंटिलेटर बना मुसीबत?