सिद्धू ने फिर दिया विवादित बयान, पीएम मोदी को लिया आड़े हाथों

गुरुवार को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ‘कायरतापूर्ण’ हमले पर बयान देकर बुरी तरह से फंसने वाले कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर सफाई पेश की है. हाल ही में पंजाब कैबिनेट के मंत्री सिद्धू ने कहा कि, 'चार आतंकवादियों की वजह से देश का विकास नहीं रुकना चाहिए. जो हुआ बेहद दुखद हुआ है. इनको सजा देना बहुत जरूरी है क्योंकि आतंकवाद का कोई मजहब नहीं है.' उन्होंने आगे ये भी कहा कि, 'अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दबाव बनाकर हमले को अंजाम देने वालों पर कार्रवाई करनी चाहिए.'

सिद्धू ने ये सभी बातें लुधियाना में कही. सूत्रों की माने तो सिद्धू ने कहा कि, 'मैं अपने दिए गए बयानों पर पूरी तरह से कायम हूं. आतंकवादियों ने पीठ के पीछे वार किया है और इसका जवाब उनको मिलना ही चाहिए.' इस दौरान सिद्धू ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी तंज कसते हुए कहा कि, 'अब वो 56 इंच का सीना कहां गया. मेरी हर बात की हर लाइन को पूरा नहीं दिखाया जाता. मैं आतंकवाद के खिलाफ डट कर खड़ा हूं.'

सिद्धू ने कहा, 'फौजियों के काफिले की सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा गया. जब एक मंत्री के गुजरने से पहले पूरे शहर को सुरक्षा के मद्दे नजर जाम कर दिया जाता है तो सेना के इतने बड़े काफिले के गुजरने से पहले ट्रैकर क्यों नहीं चलाया गया. इस प्रकार से जवानों की जो शहादतें हुई हैं, इसका स्थायी समाधान खोजना चाहिए, क्योंकि यह सब पिछले 71 सालों से हो रहा है.'

इतना ही नहीं सिद्धू ने अपने पकिस्तान जाने के मुद्दे के बारे में भी कहा कि, 'मैं तो बुलावे पर एक दोस्त के नाते गया था, इस देश का प्रधानमंत्री तो बिना बुलावे के ही पकिस्तान जाकर गले मिलकर आए थे और उनके आते ही पठानकोट के दिना नगर में आतंकियों ने हमला कर दिया. जब अटल जी पकिस्तान जाकर आए थे तो कारगिल युद्ध हुआ था. इसलिए किसी के पकिस्तान जाने का इन सब चीजों के साथ जोड़कर नहीं देखना चाहिए.'

पुलवामा हमला: कश्मीरियों की मदद को आगे आया CRPF, जारी किया हेल्पलाइन नंबर

पुलवामा हमला: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ का दावा, हम माकूल जवाब देने को तैयार

पुलवामा हमले में बोले अब्दुल्ला, सर्वदलीय प्रस्ताव में शांति अपील न होने से निराश

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -