भूख से तड़प रहे थे बच्चे तो, माँ ने उबाल दिए पत्थर

‘दुनिया में अगर आए हैं तो जीना ही पड़ेगा…’  महबूब खान की फिल्म ‘मदर इंडिया’ हिंदी सिनेमा का सुनहरा पन्ना है, जिसे जब पढ़ो तब ताजा नजर आता है. फिल्म 1957 में आई थी लेकिन कई दृश्य इस दौर में भी प्रासंगिक हैं. याद है फिल्म का वो सीन जब बाढ़ के बाद मां अपने बच्चों की भूख शांत करवाने के लिए उन्हें झूठा दिलासा देती है कि वह खाना पका रही है. लेकिन असलियत में सिर्फ पानी ही गर्म हो रहा होता है. ऐसा ही एक मामला कोरोना वायरस के इस मुश्किल समय में केन्या से सामने आया है, जहां गरीबी से बेहाल एक मां ने चूल्हे पर पत्थर उबालने को रख दिए, ताकि भूख से रोते हुए उसके बच्चे चुप हो जाएं.

बता दें की केन्या के मोम्बासा शहर की पेनिना बहाती कित्साओ 8 बच्चों की मां हैं. वह विधवा और निरक्षर हैं. वह लोगों के कपड़े धोकर अपने परिवार का गुजारा बसरा करती थीं. लेकिन कोरोना संकट के बाद से उनकी जिंदगी बेहद मुश्किल सी हो गई है. इस संकट ने उन्हें इतना गरीब बना दिया है कि उन्हें अपने भूखे बच्चों को चुप करवाने के लिए चूल्हे पर पत्थर उबालने का नाटक करना पड़ा ताकि खाने की उम्मीद और इंतजार में बच्चे सो जाएं.

केन्या के एक इंटरव्यू किए जाने के बाद से कई लोग इस महिला की मदद के लिए आगे आए हैं. वह मोबाइल फोन और बैंक अकाउंट के जरिए उन्हें पैसा भेज रहे हैं.

लॉकडाउन के बाद इस मगरमच्छ की तरह घरों से बाहर निकलेंगे लोग !

लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर जब चार पुलिस वालों ने कंधे पर उठाकर किया डांस! यहाँ देखे वीडियो

युवक घर से बाहर निकला था सब्जी और राशन लेने के लिए, लेकिन ले आया दुल्हन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -