'दुनिया बचाने के लिए मंगल ग्रह से उतरा ये बच्चा', चौका देगी ये कहानी

दुनियाभर में इन दिनों कई ऐसे कारनामे चर्चा में आ जाते हैं जिन्हे जानने के बाद लोगों के होश उड़ जाते हैं। आप सभी जानते ही होंगे भविष्य का हाल जानने के साथ रहस्यों की दुनिया में विश्वास रखने वाले लोग अक्सर बाबा वेंगा (Baba Vanga) और नॉस्त्रेदमस (Nostradamus) की लिखी बातों पर भरोसा करते हैं। हालाँकि इन सभी के बीच एक रूसी जीनियस बोरिस (Boris Kipriyanovich) ने यह दावा किया है कि वह मंगल (Mars) ग्रह से नाता रखता है और धरती (Earth) को परमाणु सर्वनाश (Nuclear Apocalypse) से बचाने आया है। जी दरअसल अपने विलक्षण दिमाग के चलते छोटी सी उम्र में सुर्ख़ियों में रहे इस रूसी जीनियस बोरिस की उम्र 25 साल है।

वहीं उसकी मां ने काफी समय पहले जब अपने बेटे के मंगल ग्रह से आने का दावा किया तो लोग हैरान रह गए। हालांकि इस दौरान जब उनके बच्चे से पूछताछ की गई तो उसका ज्ञान और आईक्यू लेवल आम लोगों की तुलना में कहीं ज्यादा पाया गया। जी दरअसल उसकी बताई चीजें अक्सर सही साबित हो जाती थीं। केवल यही नहीं बल्कि लोग उसकी इस क्षमता से प्रभावित होने लगे थे। जी दरअसल वह अक्सर यह कहता था कि मंगल ग्रह की उसका पिछला घर था और वहां के बारे में उसे सब कुछ पता है। इसके बाद कुछ वैज्ञानिकों ने भी उसका इंतहान लिया और वो उनकी हर कसौटी पर खरा उतरा।

राष्ट्रपति की उपस्थिति में प्रदेश में कल से लागू होगा स्वर्गीय भूरिया का पैसा कानून

सामने आने वाली एक रिपोर्ट के मुताबिक इस कथित बाबा वेंगा जूनियर का दावा है कि वो पिछले जन्म में एलियन था और पृथ्वी से उसका कोई नाता नहीं था। केवल यही नहीं बल्कि उसका दावा था कि मंगल ग्रह पर परमाणु युद्ध की वजह से सब खत्म हुआ और एलियंस सतह से नीचे रहने लगे। ऐसे में वो मंगल से धरती पर इसीलिए आया है, ताकि इसे परमाणु युद्ध के नुकसान से बचाया जा सके।

वहीं बोरिस की डॉक्टर मां का कहना है, 'मेरे बेटे बोरिस ने 4 महीने की उम्र से बोलना शुरू कर दिया था। एक साल की उम्र में वो न्यूज़ पेपर पढ़ने लगा था। हम जब उसे स्पेस के बारे में बताते थे, तब वो अक्सर मंगल ग्रह के बारे में बात करता था। छोटी सी उम्र में उसे एलियंस और अंतरिक्ष के बारे में वो जानकारी थी जो सामान्यत: विज्ञान के शिक्षकों या वैज्ञानिकों को होती है।' आपको बता दें कि मंगल ग्रह पर अपने पिछले जीवन के बारे में बात करते हुए उसने दावा किया कि मंगल ग्रह की सभ्यता इतनी एडवांस है कि वहां के लोगों में आकाशगंगाओं की यात्रा करने की क्षमता है। इसके अलावा बोरिस के दावों में यह भी कहा गया कि मंगल ग्रह के निवासी भूमिगत रहते हैं क्योंकि एक परमाणु युद्ध के रेडिएशन से वहां का पर्यावरण तबाह हो गया था।

आगे उसने कहा, 'वह बाहरी अंतरिक्ष से पृथ्वी पर एकमात्र शख्स नहीं है, उसके जैसे अन्य लोग हैं जिन्हें मानवता को बचाने के मिशन के साथ धरती पर भेजा गया है। यह पहला मौका नहीं है कि जब मैं धरती पर आया हूं, मैं पहले भी अपना काम पूरा कर चुका हूं।' आपको बता दें कि फिलहाल बोरिस और उसकी मां गायब हैं, दोनों का कुछ पता नहीं है और यही उनकी कहानी को और भी रहस्यमय बनाता है। पश्चिमी देशों के पत्रकारों द्वारा दोनों को ट्रैक करने की सभी कोशिशें नाकाम रही हैं।

माँ के बाद महेश बाबू के पिता का निधन, फूट-फूटकर रो रहे अभिनेता

श्रद्धा को मारकर दूसरी लड़की को डेट कर रहा था आफताब, 35 टुकड़े वाले कमरे में मनाता था रंगरेलियां

बहुत सस्ते होने वाले हैं पेट्रोल-डीजल के दाम! ये कदम उठाने की तैयारी में है केंद्र सरकार

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -