महाराष्ट्र सरकार और गवर्नर में घमासान, शिवसेना ने सामना के जरिए साधा निशाना

मुंबई: महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे की पार्टी शिवसेना अब राज्य के राज्यपाल से भिड़ गई है और मुद्दा है 'फाइनल ईयर की परीक्षा' कराने का. दरअसल महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (UGC) को पत्र लिखकर फाइनल इयर की वार्षिक परीक्षा निरस्त करने की मांग की थी. जिस पर गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी भड़क गए थे और उन्होंने सीएम उद्धव ठाकरे को लिखा कि वह छात्रों के हित में बगैर देरी किए यूनिवर्सिटीज में वार्षिक परीक्षा कराने के मुद्दे का समाधान करें ,क्योंकि 'विश्वविद्यालयों द्वारा वार्षिक परीक्षा का आयोजन नहीं करना यूजीसी के दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने के समान है.' 

साथ ही उन्होंने सीएम ठाकरे से कहा कि वह अपने मिनिस्टर को अनावश्यक हस्तक्षेप करने से रोकें. गौरतलब है की राज्यपाल यूनिवर्सिटीज के चांसलर होते हैं. जिसके बाद आज सामना ने अपने संपादकीय में गवर्नर पर हमला बोला है. सामना ने लिखा हैं कि, 'महाराष्ट्र में दस लाख से अधिक फाइनल ईयर के विद्यार्थी हैं. दस लाख से ज्यादा विद्यार्थी परीक्षा केंद्रों तक कैसे पहुंचेंगे? उनकी व्यवस्था कैसे करेंगे? कर्मचारी, प्राध्यापक और शिक्षक किस तरह पहुंचेंगे? परीक्षा के जरिए कोरोना का संक्रमण बढ़ेगा तो क्या होगा? बहुत सारे स्कुल-कॉलेज की जगहों को कोरोना के लिए क्वारंटीन सेंटर बनाया गया है तो परीक्षा सेंटर कहां बनाएंगे?

दो महीने बाद शुरू हुई उड़ानें, कई फ्लाइट्स हुई कैंसिल, परेशान हुए यात्री

क्या श्रम कानूनों में बदलाव ला पाएंगी उघोग जगत में गति ?

देश में नौकरी को लेकर इतने प्रतिशत लोग भटक रहे बेरोजगार

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -