महाराष्ट्र में मचे सियासी बवाल के बीच केंद्र सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

मुंबई: महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक जंग के बीच केंद्र सरकार ने शिवसेना के 15 बागी विधायकों को वाई प्लस कैटेगरी की सुरक्षा दी है। अब इन्हें CRPF की सुरक्षा प्रदान कराई गई है। गुवाहाटी में उपस्थित शिवसेना के बागी विधायकों ने महाराष्ट्र में उपस्थित अपने परिवार की सुरक्षा को लेकर चिंता व्यक्त की थी। बागी विधायकों का आरोप था कि उनके परिवार की सुरक्षा को वापस ले लिया गया है। दूसरी तरफ बागी गुट के नेता एकनाथ शिंदे ने भी बोला था कि यदि बागी विधायकों के परिवार को कुछ होता है इसके लिए उद्धव और आदित्य ठाकरे जिम्मेदार होंगे।

आपको बता दें कि उद्धव ठाकरे के समर्थकों ने शनिवार को कई बागी विधायकों के कार्यालयों पर तोड़फोड़ की थी। इसकी खबर के बाद गुवाहाटी में उपस्थित शिवसेना के बागी विधायकों ने सुरक्षा को फिर से बहाल करने की मांग की थी। उधर, शिवसेना के राज्यसभा सासंद संजय राउत ने बागी विधायकों की सुरक्षा वापस लेने की खबरों से मना कर दिया था। उन्होंने कहा कि सभी की सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी है, किसी की भी सुरक्षा वापस नहीं ली गई है। वही बागी MLA के कार्यालयों के बाहर शिवसैनिकों के हंगामे एवं तोड़फोड़ की घटना के बाद बागी गुट के नेता एकनाथ शिंदे के घर के बाहर भी पुलिस बल को तैनात किया गया है।   

इन 15 बागी विधायकों को दी गई है वाई प्लस सुरक्षा:-
रमेश बोर्नारे
मंगेश कुडलकर
संजय शिरसात
लताबाई सोनवणे
प्रकाश सुर्वे
सदानंद सरनवंकर
योगेश दादा कदम
प्रताप सरनाइक
यामिनी जाधव
प्रदीप जायसवाल
संजय राठौड
दादाजी भुसे
दिलीप लांडे
बालाजी कल्याणर
संदीपन भुमरे

सचिन पायलट पर भड़के CM अशोक गहलोत, लगाया गंभीर आरोप

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच नवनीत राणा ने गृहमंत्री अमित शाह से की बड़ी मांग

शिवसेना को बचाने मैदान में उतरी रश्मि ठाकरे, संजय राउत बोले- 'आना ही पड़ेगा चौपाटी में'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -