प्रत्याशीयों को जीत हासिल करने के लिए लगाना पड़ रहा है एड़ी चोटी का जोर

गजेंद्र राजपूत/ नर्मदापुरम:  नगरीय निकाय चुनाव के मतदान का दिन नजदीक आने लगा है। वहीं पार्षद पद के उम्मीदवार जीत के लिए हर प्रयत्न कर रहे है। देखना होगा ऊंट किस करवट बैठेगा, नगरीय चुनाव स्थानीय मुद्दों को लेकर लड़ा जाता है तो नगर पंचायतों का या कहो दोनों पार्टियों का पुराना कार्यकाल भी सबके सामने आ जाता है।

जहां पूर्व में भारत सरकार द्वारा कई योजना दी गई जिसमे से कई योजना का लाभ जनता को नहीं मिला वो भी शहर की जनता भूल नहीं पाई है। यह योजना गरीबों को मिलना थी या यूं कह लो कि गरीबों का हक मारा गया और वह योजनाओं का गलत तरीके से बंदर बांट किया गया‌। वहीं कहो तो काफी दिनों से दूर कांग्रेस पार्टी भी नगर पंचायत पर कब्जा जमाने के लिए रणनीति से चुनाव लड़ रही है। भाजपा और कांग्रेस के बागी प्रत्याशी भी आखरी तक कोई समझौता करने को तैयार नहीं हुए और मैदान में डटे हुए हैं।

नगरीय निकाय चुनाव में तीसरा मोर्चा निर्दलियो के चुनाव लड़ने से समीकरण और भी बदल गए हैं। इस वर्ष के नगरीय चुनाव यह सिद्ध करेंगे कि नगर की जनता इस बार विकास चाहती है। सूत्रों के अनुसार कुछ निर्दलीय उम्मीदवार भी अपना पूरा जोर लगा रहे हैं जो कि समीकरण बदलने में सक्षम भी हैं। वहीं नगर की जनता इस बार परिवर्तन चाहती है। देखा जाये तो दोनों पार्टी के नेता अपनी पूरी ताकत से अपनी पार्टी को जीत दिलाने के लिए प्रयास कर रहे हैं।

इंदौर में दौड़ेगी अत्याधुनिक फ्रांसिसी मेट्रो ट्रेन

चुनाव सामग्री वितरण के दौरान शराब पीकर आये दो कर्मचारियों को कलेक्टर ने किया निलंबित

हर घंटे बनेंगी 1 लाख रोटियां.., PM मोदी ने किया उत्तर भारत की सबसे बड़ी रसोई का शुभारंभ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -