दुनिया की ये है आखिरी सड़क, जहां पर अकेले जाना है मना

उत्तरी ध्रुव के बारे में तो आपने सुना ही होगा, जो पृथ्वी का सबसे सुदूर उत्तरी बिंदु है. यह वह बिंदु है, जहां पर पृथ्वी की धुरी घूमती है. यह नॉर्वे का आखिरी छोर है. यहां से आगे जाने वाले रास्ते को ही दुनिया की आखिरी सड़क कहा जाता है. इसका नाम ई-69 है, जो पृथ्वी के छोर और नॉर्वे को जोड़ती है. ये वो सड़क है, जहां से आगे कोई सड़क ही नहीं जाती है. बस बर्फ ही बर्फ और समुद्र ही समुद्र नजर आता है. दरअसल, ई-69 एक हाइवे है, जो करीब 14 किलोमीटर लंबा है. इस हाइवे पर ऐसी कई जगहें हैं, जहां अकेले पैदल चलना या गाड़ी चलाना भी मना है. कई लोग एक साथ हों, तभी आप यहां से गुजर सकते हैं वरना नहीं. इसके पीछे कारण ये है कि हर तरफ बर्फ की मोटी चादर बिछी होने के वजह से यहां खो जाने का खतरा हमेशा बना रहता है.  

बता दें की उत्तरी ध्रुव के पास होने के कारण यहां सर्दियों के मौसम में न तो रातें खत्म होती हैं और न ही गर्मियों में सूरज डूबता ही है. कभी-कभी तो यहां लगभग छह महीने तक सूरज चमकता ही नहीं है. सर्दियों में यहां का तापमान माइनस 43 डिग्री से माइनस 26 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहता है जबकि गर्मियों में तापमान का औसत जमाव बिंदु जीरो डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है.  

आपको ये जानकर हैरानी होगी कि इतनी भयंकर ठंड पड़ने के बावजूद यहां लोग रहते हैं. पहले यहां सिर्फ मछली का कारोबार चलता था. 1930 से इस जगह का विकास होना शुरू हुआ. करीब चार साल बाद यानी 1934 में यहां के लोगों ने मिलकर फैसला किया कि यहां सैलानियों का भी स्वागत किया जाना चाहिए, ताकि उनकी कमाई का एक अलग जरिया बने. अब दुनियाभर से लोग उत्तरी ध्रुव घूमने के लिए आते हैं. यहां उन्हें एक अलग दुनिया में होने का अहसास होता है. यहां डूबता हुआ सूरज और पोलर लाइट्स तो देखते ही बनता है. गहरे नीले आसमान में कभी हरी तो कभी गुलाबी रोशनी देखने को मिलती है. पोलर लाइट्स को 'ऑरोरा' भी कहते हैं. यह रात के समय दिखाई देता है, जब आसमान में घुप्प अंधेरा छाया रहता है.  

एक ऐसा रहस्मय शख्स,जो जहां भी जाता वहां बारिश होने लगती

इस वीरान गांव में छुपे हुए कई गहरे रहस्य

जब इस बच्ची ने डॉग के साथ खेली छुपन छुपाई, वायरल हो रहा है ये मजेदार वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -