लालू-केजरीवाल की दोस्ती, कुमार को नहीं आई रास

By Khushbu Joshi
Dec 01 2017 10:28 AM
लालू-केजरीवाल की दोस्ती, कुमार को नहीं आई रास

नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी (आप) में छिड़ा सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है. कुमार विश्वास ने आप और राजद में किसी किस्म के चुनावी गठबंधन की पुरजोर मुखालफत करते हुए कहा है कि जब तक आप में उनके जैसा एक भी संस्थापक सदस्य बचा है, ऐसी किसी राजनीतिक साझेदारी की इजाजत नहीं दी जाएगी.

कुमार विश्वास ने गुरुवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि, यदि मुख्यमंत्री केजरीवाल बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता व लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव से मिलते हैं तो इसमें कोई आपत्ति की बात नहीं है लेकिन यदि इस बहाने आप और राजद के बीच किसी चुनावी गठबंधन की कोशिश की जाएगी तो इसका जोरदार विरोध किया जाएगा.

कुमार ने आगे कहा, 'मैं ये जरूर कहूंगा कि इस देश में साम्प्रदायिकता और धर्मनिरपेक्षता की नौटंकी के नाम पर सत्ता के गठबंधन की चाह इस देश के नेताओं के खून में है . रामविलास पासवान को जब बीजेपी के साथ सरकार बनानी होती है तो गैर कांग्रेसवाद के साथ आते हैं और जब कांग्रेस का साथ चाहते हैं तो साम्प्रदायिकता विरोधी हो जाते हैं. सेक्युलरिज्म और कंम्यूनलिस्म इन दो कार्डों को खेलना बेकार है, जो छल धर्मनिरपेक्षता शब्द पर कांग्रेस और उसकी साथी पार्टी करती हैं वो ही छल राष्ट्रवाद नाम पर बीजेपी और उसकी साथी पार्टी करती हैं.

उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी के लालू के साथ खड़े होने का कोई सवाल ही नहीं है.दूसरी ओर राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि यह बात सच है कि बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी ने पिछले दिनों दिल्ली में मुख्यमंत्री केजरीवाल से मुलाकात की थी। इस दौरान भाजपा के खिलाफ सभी धर्मनिरपेक्ष और समान विचारों वाली पार्टियों को साथ आने की अपील की गई थी. हालांकि आप और राजद के बीच किसी चुनावी गठबंधन की बात नहीं हुई थी.

एयरफोर्स के विमान का इंजन हुआ फेल

सिंघवी के खिलाफ दायर होगा मानहानि का केस

अब ट्रेन में टॉयलेट यूज करना नहीं होगा आसान