लाल बहादुर शास्त्री इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट ने मनाया 26वां स्थापना दिवस

Feb 25 2021 05:50 PM
लाल बहादुर शास्त्री इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट ने मनाया 26वां स्थापना दिवस

नई दिल्ली: लाल बहादुर शास्त्री इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (एलबीएसआईएम) द्वारका दिल्ली ने अपने कॉलेज परिसर में अपना 26वां स्थापना दिवस मनाया। इस कार्यक्रम को गुरचरण दास (लेखक और पूर्व सीईओ, प्रोक्टर एंड गैंबल, इंडिया) की सौहार्दपूर्ण उपस्थिति के साथ चिह्नित किया गया था, जिन्होंने "डोंट जस्ट जस्ट लिविंग, मेक ए लाइफ" पर वस्तुतः एक व्याख्यान दिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं एलबीएसआईएम के अध्यक्ष अनिल शास्त्री ने की।

दर्शकों के साथ स्पेकिंग करते हुए श्री दास ने कहा, हमें हमेशा बेहतर परिणाम के लिए विचारों में इमेजिंग करने के बजाय करने में विश्वास करना चाहिए। एक कॉर्पोरेट आदमी की कहानियों में से एक से सीखने के लिए सबसे अच्छा प्रेरणादायक सबक हमारा रवैया ही है-सफलता के बजाय अपने कौशल और प्रतिभा है जो हर गुजर स्नातक को समझ में आना चाहिए, जबकि भर्ती के लिए तैयारी की। इसके अलावा उन्होंने कहा कि हम सभी को कर्मयोगी होना चाहिए, जिसमें भगवान श्रीकृष्ण द्वारा भगवत गीता का पाठ भी पढ़ाया जाता है। उन्होंने खुशी शब्द की व्याख्या करते हुए कहा कि सभी को सुख का जीवन जीना चाहिए। यह तब प्राप्त हो सकता है जब आप अपने काम से प्यार करते हैं और साथ ही आप उस व्यक्ति को प्यार वापस और सम्मान देते हैं जिसके साथ आप रहते हैं।

आज ही के दिन एलबीएसआईएम ने कॉर्पोरेट एक्सीलेंस के लिए अपने पूर्व छात्रों को सम्मानित किया था, पुरस्कार प्राप्तकर्ता मनप्रीत सिंह (1996-98) ग्रुप हेड-न्यू बिजनेस एंड विविधीकरण सलाहकार सोमणी इम्प्रेसा ग्रुप, अमित कुरसेजा (2003-05) अमेजन पे इंडिया के लिए मर्चेंट स्वीकृति के प्रमुख, आनंद कॉर्प सर्विसेज लिमिटेड के साथ अरदमान सिंह (1995-97) प्रशिक्षण समन्वयक, एकता कुमार (1996-1998) सामाजिक प्रभाव और परिवर्तन प्रबंधन नेता और गोपाल अय्यर (2004-2006) परिवर्तन प्रक्रिया में आपूर्ति श्रृंखला, शामिल है।

कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह ने मांगी राहुल गांधी से माफी, जानिए क्या है वजह? ​

ईंधन की कीमतों में वृद्धि के कारण Zomato ने लिया बड़ा फैसला, डिलिवरी पार्टनर्स के वेतन में होगा इजाफा

Ind Vs Eng: इंग्लैंड की मैच में जबरदस्त वापसी, भारत के 9 बल्लेबाज़ लौटे पवेलियन