208 किलो के आभूषण पहन सजे भगवान जगन्नाथ, दो साल बाद भक्तों ने किए दर्शन

208 किलो के आभूषण पहन सजे भगवान जगन्नाथ, दो साल बाद भक्तों ने किए दर्शन
Share:

ओडिशा के पुरी स्थित भगवान जगन्नाथ के 'सुना भेष' (स्वर्ण परिधान) में दर्शन करने के लिए लाखों श्रद्धालु मंदिर पहुंचे। जी दरअसल मौसी के घर से लौटे महाप्रभु जगन्नाथ,भैया बलभद्र और बहन सुभद्रा ने रविवार को सोना भेष में दर्शन दिया। आप सभी जानते ही होंगे यह वार्षिक रथ यात्रा के भव्य अनुष्ठानों में से एक है। जी हाँ और यह अनुष्ठान वार्षिक रथ यात्रा की वापसी और भगवान के गुंडिचा मंदिर से लौटने के एक दिन बाद आषाढ़ एकादशी को होता है।

आप सभी को बता दें कि भगवान बलभद्र, देवी सुभद्रा और भगवान जगन्नाथ का रथ 12वीं सदी में निर्मित मंदिर के सिहं द्वार पर खड़ा होता है और भगवान की आभा देखते ही बनती है। ऐसा इसलिए क्योंकि उनके विग्रहों को 208 किलोग्राम के आभूषणों से सजाया जाता है। इस बारे में पंडित सूर्यनारायाण रथ शर्मा ने बताया कि 'सुना भेष' अनुष्ठान की शुरुआत शासक कपिलेंद्र देब के शासन में सन 1460 में तब शुरू हुई जब वह दक्कन विजय कर 16 बैलगाड़ियों में भर कर सोना लेकर पुरी पहुंचे। देब ने सोने और हीरे भगवान जगन्नाथ को अर्पित किए और पुजारियों से उनके गहने बनवाने के निर्देश दिए जिन्हें विग्रहों को पहनाया जाता है।

इसी के साथ सुना भेष के लिए करीब 208 किलोग्राम स्वर्ण आभूषणों का इस्तेमाल किया जाता है। पुजारियों को भगवान को स्वर्ण आभूषणों से सजाने में करीब एक घंटे का समय लगता है। जी हाँ और भगवान को सजाने में जिन गहनों का इस्तेमाल किया जाता है, उनमें 'श्री हस्त', 'श्री पैर' ,'श्री मुकुट' और 'श्री चौलपटी' शामिल हैं। वहीं भगवान के 'सुना भेष' में हीरे का प्रयोग नहीं किया जाता और इन गहनों को मंदिर के 'रत्न भंडार' में रखा जाता है। आपको बता दें कि भगवान मौसी के घर से लौटने के बाद शयन पर जाने से पहले महाराजा का वेश धारण करते हैं और श्रद्धालुओं को दर्शन देते हैं। इस साल करीब दो साल के बाद भक्तों ने महाप्रभु जगन्नाथ के दर्शन किये हैं।

आज है सोम प्रदोष व्रत, इन मन्त्रों के जाप से पूरी होगी मनोकामना

घर के मंदिर में खंडित मूर्तियों का क्या करें, पढ़े यह रोचक जानकारी

सावन के महीने में हर दिन करें यह आरती, भोले बाबा देंगे मनचाहा वरदान

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -