गुजरात: बावलिया ने किया कांग्रेस को बेसहारा

गुजरात: बावलिया ने किया कांग्रेस को बेसहारा

अहमदाबाद: कांग्रेस की हालत फ़िलहाल देश में बूढ़े हो चुके शेर की तरह है, जो कहने को तो शेर हैं लेकिन उसकी हुकूमत की ताक़त लगभग ख़त्म हो चुकी है. उस पर एक और करारा झटका कोली समाज के असरदार नेता 63 वर्षीय कुंवरजी बावलिया के कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो जाने से लगा है. गुजरात में कांग्रेस की डूबती नैया को कुछ सहारा कोली से ही था, वो भी ख़त्म हुआ.

 कांग्रेस का दमन छोड़ने से बावलिया को भी फायदा हुआ, यहाँ उन्होंने विधायक का पद छोड़ा और उधर विजय रूपानी की सरकार ने उन्हें राज्यमंत्री के पद की शपथ दिला दी. इससे भाजपा को भी फायदा हुआ है, क्योंकि बावलिया से जो समर्थन कांग्रेस को मिल रहा था, वो अब भाजपा को मिलेगा और आगामी चुनाव के लिए भाजपा की पकड़ मज़बूत होगी. बावलिया को जल संसाधन, पशुपालन और ग्रामीण विकास मंत्रालय दिए गए हैं. 

भाजपा में शामिल होने के साथ ही बावलिया ने कांग्रेस के खिलाफ अपने हथियार खोल दिए, और उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी पर हमला करते हुए कहा कि , ''राहुल गांधी जातिवाद से तार-तार पार्टी में सफल नहीं हो सकते. वे खुद जातिवाद की सियासत करते हैं.'' वहीं कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि बावलिया ने सत्ता के लोभ में भाजपा के आगे घुटने टेक दिए. खैर, ये आरोप प्रत्यारोप तो राजनीति में चलता ही रहेगा, लेकिन बावलिया को सत्ता की मलाई खाने को मिल गई और भाजपा को कोली समाज का वोट बैंक.  

यह भी देखें:-

मानसून सत्र कल से, क्या होगा 40 लंबित बिलों का

अमित शाह का जयपुर दौरा क्या है माजरा

नारियल फेंककर फ़से ज्योतिरादित्य

 

?