कई तरीकों को अपनाकर कोरोना का मुकाबला कर रहा भारत

देश में वायरस को समाप्त करने के लिए सरकार ने बहुत जल्दी और सही तरीके से कई रणनीतियों को अपनाया. देशव्यापी लॉकडाउन महत्वपूर्ण था, क्योंकि इसके जरिए शारीरिक दूरी को आक्रामक रूप से प्रोत्साहित किया गया. भारत की रणनीति भी विज्ञान और प्रौद्योगिकी समाधानों के आसपास केंद्रित है. आरोग्य सेतु एप का क्रियान्यवन भारत सरकार की ओर से उठाया सर्वाधिक महत्वपूर्ण कदम रहा. दुनिया इस बात पर सहमत है कि कोविड-19 पर नियंत्रण लोगों के परीक्षण से ही संभव है और इसके बाद संपर्कों की ट्रेसिंग के जरिए. एक बार संपर्क का पता लगाने के बाद उन्हें आइसोलेट कर दें, जिससे कि संक्रमण को आगे फैलने से रोका जा सके. इसे भारत में शुरुआती दिनों में ही लागू किया गया.

आईएएस के चयन में जुड़ा नया नियम, जाने

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि किसी भी बीमारी को नियंत्रित करने के लिए तीन सिद्धांत निदान, टीकाकरण और हस्तक्षेप हैं. इन सभी के तेजी से और सटीक होने की आवश्यकता है. भारत की रणनीति भी इन तीन मूल सिद्धांतों पर आधारित है. कोविड-19 को नियंत्रित करने की कुंजी शीघ्र पहचान है. वर्तमान समय में सर्वाधिक स्वर्णिम आरटी पीसीआर पहचान है. कोविड-19 के लिए एंटीबॉडी 6-10 दिनों के बाद ही विकसित होते हैं. इसलिए एंटीबॉडी आधारित परीक्षणों का उपयोग पहचान के रूप में अंकित नहीं किया जाता है. यद्यपि एंटीबॉडी आधारित परीक्षणों से उन लोगों का पता लगाने में आसानी होती है, जिनमें अतीत में लक्षण नजर नहीं आने वाला संक्रमण हुआ है और उनकी ट्रेसिंग के जरिए उच्च प्रसार वाले क्षेत्रों की पहचान की जा सकती है.

चौतरफा हमलों में घिरी सीएम ममता, विपक्ष ने लॉन्च किया 'भय पेयेछे ममता' अभियान

इसके अलावा टीएचएसटीआइ, फरीदाबाद और टीसीएस ने साथ मिलकर सीएसआइआर का अध्ययन शुरू किया है. यदि यह सफल होता है तो पूरे देश में एक ही रणनीति अपनाई जा सकती है और जल्द रोकथाम में मदद मिल सकेगी. हालांकि, आरटी पीसीआर आधारित परीक्षण को कोविड -19 के निदान में स्वर्णिम मानक के रूप में माना गया है. अन्य परीक्षणों को भी तत्काल विकसित किया गया है. इसकी पहचान के लिए कुछ उल्लेखनीय कार्य एससीटीआइएमटी, तिरुवनंतपुरम में विकसित आरटी एलएएमपी परीक्षण का विकास और आइजीआइबी, दिल्ली में विकसित एफईएलयूडीए परीक्षण है. ये दोनों परीक्षण तेज, सटीक और सस्ते हैं. यह सभी भारतीयों के लिए गर्व की बात है कि स्वदेश में विकसित परीक्षण जल्द ही पूरी दुनिया में एक मानदंड बन जाएगा.

हरियाणा : घर वापसी को लेकर सरकार के पास आया भारी भरकम आंकड़ा

इस शहर में तबाही मचा रहा कोरोना, सबसे पहले लग सकता है लॉकडाउन 4

सिक्किम बॉर्डर पर बढ़ा तनाव, भारतीय और चीनी सैनिकों में भिड़ंत की खबर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -