जम्मू कश्मीर: सुरंग हादसे में 10 लोगों की मौत, लापरवाही बरतने पर दर्ज हुई FIR

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के रामबन जिले में जम्मू श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक निर्माणाधीन सुरंग का हिस्सा ढहने के बाद शुरू हुआ बचाव अभियान समाप्त हो गया है। जी दरअसल इस मामले के बारे में अधिकारियों ने कहा कि भूस्खलन के बाद मलबे से नौ शव निकाले गए हैं। आप सभी को बता दें कि बीते शनिवार तक इस हादसे में मारे गए लोगों की संख्या 10 हो गई। आप तो जानते ही होंगे कि दो दिन पहले राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक निर्माणाधीन सुरंग का हिस्सा ढह गया था। इसके बाद यहां पर मजूदर फंस गए। वहीं रामबन डीप्टी कमिश्नर मुसर्रत इस्लाम ने कहा, 'सभी 10 शवों को रिकवर कर लिया गया और मृतकों के परिजनों को सूचित कर दिया गया है। 10 से पांच शव पश्चिम बंगाल के लोगों के हैं। ये ऑपरेशन समाप्त हो गया है। शवों को अस्पताल में भेज दिया गया है।'

इस मामले में रामबन की एसएसपी मोहिता शर्मा ने दोपहर में कहा था, ''मौके से अब तक नौ शव निकाले जा चुके हैं, शायद एक शव बचा है। इन 9 मृतकों में से पांच पश्चिम बंगाल, एक असम, दो नेपाल और दो स्थानीय थे। लापरवाही के आरोप में FIR दर्ज की गई है। सभी लापता मजदूरों के शवों के बरामद होने के साथ ही शनिवार की देर शाम दो दिनों से चल रहा बचाव अभियान समाप्त हो गया। घटना के तुरंत बाद गुरुवार और शुक्रवार की दरम्यानी रात बचाव दल ने तीन लोगों को मलबे से बाहर निकाला और अस्पताल पहुंचाया।'' आप सभी को बता दें कि इससे पहले, अधिकारियों ने कहा था कि रामबन जिले के खूनी नाला (Khooni Nallah) में निर्माणाधीन सुरंग का एक हिस्सा प्रोजेक्ट पर काम शुरू होने के तुरंत बाद ढह गया। हालाँकि बीते शनिवार को रामबन के डिप्टी कमिश्नर मुसर्रत इस्लाम ने नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) के हवाले से कहा कि एडिट टनल के मुहाने पर T4 तक भूस्खलन हुआ था।

वहीं इस्लाम ने ट्वीट किया, ‘NHAI द्वारा स्पष्ट किया गया है। इसलिए ये सूचित किया जाता है कि खूनी नाले के पास कोई सुरंग नहीं है। गुरुवार की रात एडिट टनल के मुहाने पर टी4 तक भूस्खलन हुआ था। यहां पर मजदूर काम कर रहे थे। ऑपरेशन जारी है।’ बीते शुक्रवार को एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया, जबकि दो स्थानीय लोगों सहित बचाए गए तीन लोगों के हालात काबू में हैं। इस मामले में अधिकारियों ने बताया कि बीते शनिवार को कई घंटे की तलाशी के बाद एक और शव को बाहर निकाला गया। चट्टानों के नीचे से शव को निकालने में बचावकर्मियों को दो घंटे से अधिक का समय लगा। इसके अलावा अधिकारियों ने कहा कि आठ और शवों को बाद में बाहर निकाला गया और अस्पताल ले जाया गया।

उन्होंने कहा कि मजदूरों की मौत पत्थर गिरने से हुई। वहीं दूसरी तरफ डिप्टी कमिश्नर ने बताया, ‘बचावकर्मियों द्वारा दिन भर की कड़ी तलाशी के दौरान सुरंग के मुहाने के बाहर भूस्खलन के बाद सभी लापता मजदूरों के शव बरामद किए गए। शुक्रवार को एक शव बरामद किया गया और तीन लोगों को बचाया गया। वहीं शनिवार को नौ और शव मिले।’ इसके अलावा इस्लाम ने कहा कि सभी शवों को पहचान और अन्य कानूनी औपचारिकताओं के लिए अस्पताल भेज दिया गया है। उन्होंने कहा कि रेड क्रॉस फंड से 25,000 रुपये और कंपनी की ओर से 25,000 रुपये की तत्काल अनुग्रह राशि दो स्थानीय मजदूरों के परिजनों को दी जा रही है। मृतकों में दोनों मजदूर शामिल हैं। बाकी मृतकों में पश्चिम बंगाल, नेपाल और असम के मजदूर शामिल हैं।

मस्जिद में लाउडस्पीकर की आवाज़ से परेशान छात्रों ने जताया विरोध, पुलिस ने कर लिया गिरफ्तार

जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर निर्माणाधीन सुरंग ढही

टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक दोषी करार, कबूली थी वायुसेना के 4 अफसरों की हत्या की बात

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -