आईटी कंपनी में काम करने का सपना रहेगा अधूरा, सामने आई बुरी खबर

भारत की सूचना प्रौद्योगिकी सेवा उद्योग को कोरोना वायरस ने बहुत नुकसान पहुंचाया है. जिस वजह से इस साल नई हायरिंग नहीं करेंगी. साथ ही आईटी सेक्टर में काम करने वाले वरिष्ठ स्तर के कर्मचारियों के वेतन में 20 से 25 फीसद कटौती की संभावना है. आईटी उद्योग के दिग्गज टी वी मोहनदास पई ने मंगलवार को यह बात कही.

श्रीकृष्ण बने अर्जुन के सारथी, दुर्योधन को मिली नारायणी सेना

नई हायरिंग को लेकर आईटी सेवाओं के प्रमुख और पूर्व इंफोसिस लिमिटेड के मुख्य वित्तीय अधिकारी ने कहा, आईटी उद्योग ने 90 फीसद से अधिक कर्मचारियों को घर से काम करने के लिए कहा है और कर्मचारी इस कोरोना काल में शानदार और अविश्वसनीय काम कर रहे हैं.

दीपिका कक्कड़ इब्राहिम पर जमकर लाड़ लुटाती है उनकी सास

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि निजी इक्विटी फंड एरिन कैपिटल और मणिपाल ग्लोबल एजुकेशन के चेयरमैन ने कहा कि 25 से 30 फीसद या इससे अधिक आईटी कंपनियों के कर्मचारी कोरोना वायरस खत्म होने और लॉकडाउन की अवधि पूरी होने के बाद भी रोटेशन के आधार पर घर से काम करेंगे. साथ ही, पई ने कहा कि ऐसी संभावना बहुत कम है कि आईटी सेक्टर को ऑफिस की जरूरत होगी, क्योंकि कोरोना खत्म होने के बाद भी सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की जरूरत होगी.

लॉकडाउन: 7 करोड़ भारतीयों ने गंवाया रोज़गार, फिर भी बेरोज़गारी दर में आया सुधार

क्या रबर मैन करने वाला है वापसी ?लॉक डाउन के दौरान जन्नत जुबैर रहमानी ने काटे अपने लम्बे बाल

लॉकडाउन : रोजाना 1200 लोगों की भूख मिटा रही यह सं​स्था

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -