जानिए क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण दिवस

Oct 13 2019 01:00 AM
जानिए क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण दिवस

पूरी दुनियाभर के लोग अंतरराष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण दिवस को विश्वभर में 13 अक्टूबर 2018 को  मनाते है. यह दिवस आपदा रहित समाज का निर्माण करने के लिए नागरिकों तथा सरकार को प्रोत्साहित करता है. इसका मुख्य उद्देश्य है आपदा जोखिम को कम करना और सुरक्षित समुदाय बनाना.वर्ष 2018 के अंतरराष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण दिवस का विषय ‘आपदा आर्थिक नुकसान को कम करना’ (रखा गया है.

इथियोपिया के पीएम अबी अहमद को दिया गया नोबेल शांति पुरस्कार

बीते दिनों सामने आए संयुक्त राष्ट्र डाटा के अनुसार, विश्वभर की आपदाओं में जान गंवाने वाले महिलाओं और बच्चों की संख्या पुरुषों के मुकाबले 14 प्रतिशत अधिक है. हालांकि 60 प्रतिशत महिलाओं की मृत्यु बचाव योग्य स्थितियों में होती है जबकि पांच वर्ष से छोटे बच्चों में यह आंकड़ा 53 प्रतिशत है. अन्य प्रभावित लोगों अथवा समूहों में दिव्यांग लोगों के साथ रहने वाले व्यक्ति शामिल हैं.खतरों की जोखिम को कम करना, भूमि और पर्यावरण संसाधनों का उचित प्रबंधन, आपदाओं से निपटने के लिए समुदाय विशेष की तैयारी में सुधार करना और ऐसे सभी विनाशकारी घटनाओं के लिए पूर्व चेतावनी जारी करना आपदा जोखिम न्यूनीकरण प्रयोजन का केन्द्र बिन्दु है.

'मोदी खेल चुके हैं अपना आखिरी दांव', जानिए इमरान खान ने क्यों कही ये बात

1. अंतरराष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण दिवस आपदाओं के जोखिम में कमी लाने की जागरूकता विकसित करने के लिए मनाया जाता है.

2. प्रत्येक वर्ष 13 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय आपदा न्यूनीकरण दिवस मनाया जाता है.

3. इस दिवस का मनाने का उद्देश्य विश्व में जोखिम प्रबंधन के प्रति जागरुकता बढ़ाई जा सके एवं आपदाओं से होने वाले नुकसान को कम किया जा सके.

4. यह दिन आपदा से उबरने की अधिक क्षमता वाले समुदायों और राष्ट्रों के निर्माण में भाग लेने के लिए हर नागरिक और सरकार को प्रोत्साहित करता है.

5. संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 1989 में प्रत्येक वर्ष के अक्टूबर माह के दूसरे बुधवार को इस दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की थी, लेकिन बाद में 21 दिसम्बर 2009 को संयुक्त राष्ट्र ने प्रत्येक वर्ष 13 अक्टूबर को इस दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की.

लंदन: धारा 370 के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम में हंगामा करने वाले छात्र बोले, 'हम RSS या BJP से नहीं'

ईरान की इस महिला ने अपनी जान देकर महिलाओं को दिलाया यह अधिकार

लेबनान में चरम पर सामूहिक शादियों का ट्रेंड, लेकिन बेहद खतरनाक है इसका कारण