लॉकडाउन में नहीं होगी असुविधा, मिला खाद्य सामग्री को मंगवाने का नया उपाय

मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. इस पर काबू पाने के लिए प्रशासन हर संभव कोशिशे कर रहा है. वहीं अब शहर में डोर टू डोर किराना डिलिवरी सिस्टम जमने के बाद नगर निगम ने नया प्रयोग शुरू किया है. इसके तहत हर जोन और वार्ड में निगम के सिस्टम से जुड़ने वाले दुकानदारों के नंबर पर्ची पर छपवाए गए हैं. इससे नागरिक डोर टू डोर कचरा इकट्ठा करने आने वाली गाड़ी के अलावा सीधे दुकानदारों को वाट्सएप या टैक्स्ट मैसेज कर राशन सामग्री का ऑर्डर दे सकते हैं. दुकानदार ऑर्डर के आधार पर ग्राहक तक वह सामग्री पहुंचाएगा. इस सिस्टम से न केवल सप्लाई चेन छोटी होगी बल्कि वक्त भी बचेगा और ग्राहकों तक किराना जल्दी पहुंचाने में मदद मिलेगी.

आपको बता दें की शुक्रवार से निगम ने कुछ वार्डों में लोगों को पर्चियां बांटकर इस तरह का प्रयोग शुरू कर दिया. निगमायुक्त आशीष सिंह के दिशानिर्देश पर यह नई व्यवस्था की गई है. पर्ची में संबंधित दुकानदारों के नाम, मोबाइल नंबर और उनके वितरण क्षेत्र का उल्लेख है. निगमायुक्त ने ये कहा है कि कचरा संग्रहण वाहन के सभी रूट पर दो से चार दुकानदार निगम सिस्टम से जुड़ चुके हैं, इसलिए नया सिस्टम आसानी से क्रियान्वित हो सकता है. इससे निगम टीम पर काम का दबाव कम होगा. जल्द ही यह सिस्टम सभी वार्डों में लागू कर दिया जाएगा. इस सिस्टम में भी निगम द्वारा तय 15 वस्तुएं ही दी जाएंगी. इनमें आटा, दाल, चावल, खाद्य तेल, शकर, चाय पत्ती, दूध पावडर, नमक, मसाले, साबुन और आलू-प्याज शामिल हैं.

वहीं, लोगों को दी जाने वाली पर्चियों में निगम द्वारा बनाए गए रूट प्रभारी के नाम और मोबाइल नंबर भी होंगे. इससे किसी नागरिक को कोई परेशानी आती है या शिकायत है तो वह सीधे रूट प्रभारी से संपर्क कर सकता है. रूट प्रभारी की जिम्मेदारी होगी कि वह यथासंभव नागरिकों की परेशानी दूर करे. पर्ची में निगम द्वारा किराना सामग्री वितरण व्यवस्था के लिए बनाई गई. 

कोरोना की रोकथाम के लिए इन संक्रमित इलाकों में किया जा रहा है व्‍यापक सैनिटाइजेशन

इंदौर में 39 मरीजों ने दी कोरोना को मात, स्वस्थ होकर पहुंचे अपने घर

लॉकडाउन में बैंक मैनेजर को लिफ्ट देना पड़ गया भारी, दोनों पर केस

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -