महज 15 दिन में तैयार हुई देश की पहली मोबाइल लैब, रोज़ होंगे इतने कोरोना टेस्ट

नई दिल्ली: देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को देश में अपनी तरह की पहली मोबाइल वायरोलॉजी रिसर्च एंड डायग्नोस्टिक्स लेबोरेटरी (MVRDL) का शुभारंभ किया. यह कोरोना वायरस की जांच के लिए देश में ऐसी पहली लैब है, जिसे रक्षा से संबंधित रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने तैयार किया है.

देश में कोरोना के तेजी से फैलते संक्रमण को देखते हुए डीआरडीओ ने इसका निर्माण किया है. कोरोना वायरस की स्क्रीनिंग और इस पर रिसर्च हो सके, इसके लिए यह लैब तैयार की गई है. इस मोबाइल लैब की विशेषता यह है कि हर दिन इसमें 1-2 हजार सैंपल की जांच हो सकेगी. लैब का शुभारंभ करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना वायरस को रोकने के लिए समय पर कई फैसले लिए गए जिसकी वजह से देश में आज स्थिति अन्य देशों की तुलना में बेहतर है. 

राजनाथ सिंह ने डीआरडीओ की इस बात के लिए बेहद प्रशंसा भी की, कि सिर्फ 15 दिन में बायो सेफ्टी लेवल 2 और लेवल 3 के लैब की शुरुआत कर दी गई है. ऐसी लैब तैयार करने में अमूमन छह माह का समय लगता है, किन्तु  कोरोना की गंभीर स्थिति को देखते हुए इसे 15 दिन में ही बना लिया गया है.

हिलाकर रख देगी भारत की आर्थिक वृद्धि दर में अनुमानित गिरावट

तेजी से हो रहा क्रेडिट और डेबिट कार्ड का इस्तेमाल, गुम हो जाने पर करें यह काम

इंडिगो ने वापस लिया अपना फैसला, नहीं काटेगी कर्मचारियों का वेतन

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -