भारतीय महिला क्रिकेट टीम की अंशुला राव पर लगा 4 साल का प्रतिबन्ध, डोप टेस्ट में हुईं फेल

नई दिल्ली: भारतीय महिला क्रिकेट टीम की खिलाड़ी अंशुला राव (Anshula Rao) डोप टेस्ट में फेल हो गई हैं. इसके बाद नाडा (Nada) के पैनल ने उन पर 4 साल का प्रतिबन्ध लगा दिया है. अंशुला डोप टेस्ट की वजह से बैन होने वाली पहली भारतीय महिला क्रिकेटर हैं. मप्र की इस क्रिकेटर के दोनों सैंपल की टेस्टिंग के बाद यह फैसला आया है. इसके साथ ही अंशुला को बी सैंपल की जांच में आए लगभग 2 लाख के खर्च को भी उठाना होगा.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (Nada) के पैनल ने खिलाड़ी पर 4 साल का प्रतिबन्ध लगाया है. मप्र की तरफ से विभिन्न टूर्नामेंट में उतरने वाली अंशुला राव को प्रदर्शन बढ़ाने के लिए प्रतिबंधित पदार्थ लेने का दोषी पाया गया है. वे आखिरी बार 2019-20 में अंडर-23 टूर्नामेंट में उतरी थीं. गत वर्ष उन्हें मार्च में प्रतिबंधित पदार्थ लेने की वजह से सस्पेंड किया गया था. अंशुला इस मामले में सही जानकारी नहीं दे सकी थीं.

अंशुला राव के दो सैंपल टेस्टिंग के लिए बेल्जियम भेजे गए थे. इसमें प्रतिबंधित पदार्थ पाए गए. पैनल के सामने अपने बचाव में अंशुला राव ने कहा कि डोप टेस्ट और नाडा द्वारा लगाए गए आरोप के बीच तक़रीबन 4 महीने का वक़्त बीत चुका है. उन्होंने यह भी कहा कि उनसे बी सैंपल की टेस्टिंग के लिए 2400 यूरो (तक़रीबन 2 लाख रुपए) देने को कहा गया. यह उनके साथ अनुचित व्यवहार है.

ऐसे परिवार से है टोक्यो ओलिंपिक 2021 में चयनित हुए खिलाड़ी जिन्होंने अपने दम पर किया देश का नाम ऊंचा

तीरंदाज़ी विश्व कप में 'गोल्डन हैट्रिक' लगाने के बाद विश्व की 'नंबर वन' तीरंदाज़ बनी दीपिका कुमारी

कहाँ खेला जाएगा T-20 वर्ल्ड कप 2021 ? आज आएगा अंतिम फैसला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -