निवेश का माहौल बेहतर बनने में भारत का अहम योगदान

वाशिंगटन : बीते शनिवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने वर्ल्ड बैंक को जानकारी उपलब्ध करवाते हुए यह कहा है कि भारत के द्वारा ही लगभग सभी क्षेत्रों में निवेश के वातावरण को बेहतर तरह से तैयार किया गया है. इसके कारण ही पिछले दो सालो में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भी देखने को मिला है और इस कारण इजाफा भी हुआ है. बता दे कि जेटली ने यहाँ वर्ल्ड बैंक की विकास समिति की 93वीं बैठक को संबोधित करते हुए यह बात कही है. इसके साथ ही अधिक जानकारी देते हुए उन्होंने यह भी कहा है कि भारत के द्वारा कई विदेशी निवेश नीतियां तैयार की गई है.

जिनमे मुख्य रूप से "मेक इन इंडिया", "स्टार्टअप इंडिया" और "डिजिटल इंडिया" शामिल है. और इन योजनाओं के चलते ही यह देखने को मिला है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी प्रमुख हिस्सों जैसे कृषि, विनिर्माण एवं सेवाएं आदि में निवेश का बेहद अनुकूल वातावरण बनाया गया है. वित्त मंत्री ने बयान देते हुए यह बात कही है कि पिछले दो सालो में भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश एफडीआई के प्रवाह में 30 से 40 फीसदी से भी अधिक की बढ़ोतरी देखने को मिली है.

जिसके कारण भारत को विश्व का सातवां सबसे बड़ा एफडीआई गंतव्य बनने में मदद मिली है. सम्बोधन को आगे बढ़ाते हुए जेटली ने यह भी कहा है कि भारत के द्वारा युगांतरकारी पहल की शुरुआत की गई है. जिसके चलते ही यह भी देखने को मिला है कि भारत ने विकासात्मक, जलवायु परिवर्तन और समावेशी एजेंटा काफी मजबूती हासिल की है. उन्होंने बताया है कि केंद्र सरकार के द्वारा विश्व के सबसे बड़े धनांतरण कार्यक्रम के अंतर्गत करीब 15 करोड़ 30 लाख घरों में सीधे सब्सिडी पहुँचाने का काम किया जा रहा है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -