जुलाई में तरबतर होगा भारत या पड़ेगी गर्मी की मार ? देखें IMD का पूर्वानुमान

नई दिल्ली: जुलाई में उत्तर भारत के कुछ हिस्सों, मध्य भारत और दक्षिण के ज्यादातर हिस्सों में 'सामान्य' या 'सामान्य से अधिक' बारिश होने का अनुमान है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने शुक्रवार को पूर्वानुमान जारी किया है। जुलाई के दौरान पूर्वी, पूर्वोत्तर भारत के ज्यादातर हिस्सों और पूर्व मध्य भारत से सटे क्षेत्रों और पश्चिम दक्षिण प्रायद्वीपीय भारत के कुछ हिस्सों में 'सामान्य' या 'सामान्य से कम' बारिश होने की संभावना है।

IMD ने एक बयान में कहा कि पूरे देश में जुलाई के दौरान 'सामान्य' बारिश (94 से 106% तक) होने का अनुमान है। 1971 से 2020 के आंकड़ों के आधार पर जुलाई के दौरान पूरे देश में बारिश की लंबी अवधि का औसत (LPA) करीब 280.4 मिमी है। जुलाई में देश के ज्यादातर हिस्सों में 'सामान्य' या 'सामान्य से अधिक' अधिकतम तापमान रहने का अनुमान है।

वहीं, हिमालय की तलहटी और प्रायद्वीपीय भारत के हिस्सों में अधिकतम तापमान 'सामान्य से नीचे' रहने की संभावना जताई जा रही है। नवीनतम वैश्विक मॉडल पूर्वानुमानों से संकेत मिलता है कि मौजूदा ला नीना की स्थिति भूमध्यरेखीय प्रशांत महासागर पर जारी रहने का अनुमान है और जुलाई से सितंबर 2022 के दौरान हिंद महासागर पर नकारात्मक हिंद महासागर द्विध्रुवीय (IOD) स्थितियों के विकास की संभावना बढ़ गई है।

मणिपुर: भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 10 हुई, 55 अब भी लापता

जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर हादसा, 4 अमरनाथ यात्री घायल

पीएम मोदी ने उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू को जन्मदिन की बधाई दी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -