IKEA इंडिया का घाटा 720 करोड़ रुपये पर जा पहुंचा

विनियामक दस्तावेजों के अनुसार, फर्नीचर रिटेलर आईकेईए इंडिया का मार्च 2020 में समाप्त वित्त वर्ष में शुद्ध घाटा बढ़कर 720.1 करोड़ रुपये हो गया। बाजार खुफिया फर्म टॉफलर द्वारा साझा किए गए एक रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी के अनुसार, मार्च 2019 को समाप्त वित्तीय वर्ष में कंपनी ने 685.4 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया था।

हालांकि, IKEA इंडिया ने वित्त वर्ष 2019-20 में अपनी शुद्ध बिक्री 64.68 प्रतिशत बढ़कर 566 करोड़ रुपये हो गई, जो पिछले वित्त वर्ष में 343.7 करोड़ रुपये थी। 2019-20 के दौरान उसका कुल राजस्व 665.6 करोड़ रुपये था, जो पिछले वित्त वर्ष में 407.9 करोड़ रुपये के मुकाबले 63.18 प्रतिशत था। आईकेईए इंडिया, जिसने इस महीने में मुंबई में अपना दूसरा खुदरा स्टोर खोला है, वित्त वर्ष 2015 में 'अन्य आय' से इसकी आय 99.6 करोड़ रुपये थी, जबकि वित्त वर्ष 1919 में यह 64.2 करोड़ रुपये थी।

IKEA ने कहा कि भारत कंपनी के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार है और यह ग्राहकों को एक सर्वचैनल अनुभव प्रदान करने के लिए निवेश कर रहा है। भारत IKEA के लिए एक महत्वपूर्ण बाजार है । हम यहां भारत में लंबी अवधि के लिए हैं। IKEA इंडिया के सीएफओ प्रीत धूपर ने कहा, हम देश में परिचालन के शुरुआती वर्षों में हैं जहां हम ग्राहकों को एक सर्वचैनल अनुभव प्रदान करने के लिए अपनी प्राथमिकता वाले बाजारों में निवेश कर रहे हैं । IKEA ने अगस्त 2018 में हैदराबाद में अपना पहला रिटेल स्टोर खोला।

2021 में फिर से बढ़ सकता है रियल एस्टेट में निजी इक्विटी निवेश

सरकार ने डिश टीवी को भेजा डिमांड नोटिस, 4,164.05 करोड़ रूपये का करें भुगतान

पिरामल, ओकट्री ने की डीएचएफएल का अधिग्रहण करने की पेशकश

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -