जानिए क्या हुआ था जब सानिया ने किया था तिरंगे का अपमान

By Emmanual Massey
Nov 15 2020 09:32 AM
जानिए क्या हुआ था जब सानिया ने किया था तिरंगे का अपमान

भारतीय टेनिस स्टार खिलाड़ी और दुनिया की नंबर वन युगल टेनिस प्लेयर सानिया मिर्जा आज 34वां जन्मदिन मना रही है. 15 नवंबर 1986 को मुंबई में जन्मी सानिया के पिता का नाम इमरान मिर्जा और माँ का नाम नसीमा था. सानिया की प्रारंभिक शिक्षा हैदराबाद के एन.ए.एस.आर स्कूल और स्नातक की शिक्षा हैदराबाद के ही सेंट मैरी कॉलेज से हुई. सानिया की बचपन से ही टेनिस खेलने में रूचि थी. महज 6 साल की उम्र में निजाम क्लब हाउस में घंटों अभ्यास करती थी. सानिया मात्र 18 वर्ष की उम्र में ही विश्व स्तर पर अपनी पहचान बना चुकी थी. सानिया 2003 से 2013 तक महिला टेनिस संघ (डब्ल्यू टी ए) के एकल और डबल में शीर्ष स्थान हासिल करने में सफल रही.

टेनिस के प्रति अपने योगदान के लिए उन्हें 2005 में अर्जुन पुरस्कार और 2006 में 'पद्मश्री' सम्मान दिया गया. पद्मश्री पाने वाली वह सबसे कम उम्र की खिलाड़ी है. इसके अलावा उन्हें 2006 में अमेरिका में 'मोस्ट इम्प्रेसिव न्यू कमर' का एवार्ड भी मिला चूका है. सानिया ने 12 अप्रैल 2010 को पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से निकाह किया. हालाँकि उनकी इस शादी का कई लोगो ने विरोध भी किया था, लेकिन सानिया ने सभी आलोचनाओं को दरकिनार करते हुए शोएब मलिक से निकाह किया.

सानिया मिर्जा का विवादों से भी गहरा नाता रहा है. पहले तो छोटी ड्रेस पहनकर टेनिस कोर्ट पर खेलने के कारण उनका मुस्लिम संगठनों ने काफी विरोध किया, वहीं दूसरी और वो राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे के अपमान को लेकर भी सुर्खियों में रहीं. दरअसल, ऑस्‍ट्रेलिया में एक टेनिस की प्रतियोगिता देखने पहुंची सानिया की कुर्सी के आगे टेबल पर तिरंगा लगा था. सानिया मिर्जा उसी टेबल पर पैर रखकर बैठ हुई थी और तिरंगा बगल में. यह तस्‍वीर काफी वायरल हुई थी. इस मामले को लेकर उनके खिलाफ 2008 में केस फाइल किया गया था. इसके अलावा ओलंपिक में भारत का झंडा उठाने से मना करने पर भी सानिया मिर्जा की काफी आलोचना हुई थी.

हालाँकि 34 साल की हो चुकी सानिया आज बुलंदियों के शिखर पर है. सानिया इस वक़्त दुनिया की नंबर वन युगल टेनिस खिलाड़ी है. सानिया मिर्जा के लिए यह साल काफी अच्छा रहा. सानिया ने अपनी स्विस पार्टनर मार्टिना हिंगिस के साथ इस साल शानदार खेल का प्रदर्शन किया. उन्होंने इस साल दो ग्रैंड स्लैम खिताब समेत कुल 9 डबल्स खिताब जीते.

सिक्किम में पहली बार होगा महिला क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन

जर्मन ज्वेरेव ने पहली बार पेरिस मास्टर्स के फाइनल में किया प्रवेश

'भारत को आसानी से हरा देगा ऑस्ट्रलिया', इंग्लैंड के पूर्व कप्तान ने दिया ये बयान