कुछ इस तरह थी Guru Teg Bahadur की जीवन गाथा

कुछ इस तरह थी Guru Teg Bahadur की जीवन गाथा

गुरु तेग़ बहादुर जी का जन्म पंजाब के अमृतसर नगर में हुआ था. ये गुरु हरगोविन्द जी के पाँचवें पुत्र थे. आठवें गुरु इनके पोते 'हरिकृष्ण राय' जी की अकाल मृत्यु हो जाने के कारण जनमत द्वारा ये नवम गुरु बनाए गए. इन्होंने आनन्दपुर साहिब का निर्माण कराया और ये वहीं रहने लगे थे. उनका बचपन का नाम त्यागमल था. मात्र 14 वर्ष की आयु में अपने पिता के साथ मुग़लों के हमले के ख़िलाफ़ हुए युद्ध में उन्होंने वीरता का परिचय दिया. 

उनकी वीरता से प्रभावित होकर उनके पिता ने उनका नाम त्यागमल से तेग़ बहादुर (तलवार के धनी) रख दिया. युद्धस्थल में भीषण रक्तपात से गुरु तेग़ बहादुर जी के वैरागी मन पर गहरा प्रभाव पड़ा और उनका का मन आध्यात्मिक चिंतन की ओर हुआ. धैर्य, वैराग्य और त्याग की मूर्ति गुरु तेग़ बहादुर जी ने एकांत में लगातार 20 वर्ष तक 'बाबा बकाला' नामक स्थान पर साधना की. आठवें गुरु हरकिशन जी ने अपने उत्तराधिकारी का नाम के लिए 'बाबा बकाले' का निर्देश दिया. 

गुरु जी ने धर्म के प्रसार लिए कई स्थानों का भ्रमण किया. आनंदपुर साहब से कीरतपुर, रोपण, सैफाबाद होते हुए वे खिआला (खदल) पहुँचे. यहाँ उपदेश देते हुए दमदमा साहब से होते हुए कुरुक्षेत्र पहुँचे. कुरुक्षेत्र से यमुना के किनारे होते हुए कड़ामानकपुर पहुँचे और यहीं पर उन्होंने साधु भाई मलूकदास का उद्धार किया.

गुरु तेगबहादुर जी प्रयाग, बनारस, पटना, असम आदि क्षेत्रों में गए, जहाँ उन्होंने आध्यात्मिक, सामाजिक, आर्थिक, उन्नयन के लिए रचनात्मक कार्य किए. आध्यात्मिकता, धर्म का ज्ञान बाँटा. रूढ़ियों, अंधविश्वासों की आलोचना कर नये आदर्श स्थापित किए. उन्होंने परोपकार के लिए कुएँ खुदवाना, धर्मशालाएँ बनवाना आदि कार्य भी किए. इन्हीं यात्राओं में 1666 में गुरुजी के यहाँ पटना साहब में पुत्र का जन्म हुआ. जो दसवें गुरु- गुरु गोविंद सिंह बने. 

गुरु तेगबहादुर जी सिखों के नौवें गुरु माने जाते हैं. औरंगज़ेब के शासन काल की बात है. औरंगज़ेब के दरबार में एक विद्वान पंडित आकर रोज़ गीता के श्लोक पढ़ता और उसका अर्थ सुनाता था, पर वह पंडित गीता में से कुछ श्लोक छोड़ दिया करता था. एक दिन पंडित बीमार हो गया और औरंगज़ेब को गीता सुनाने के लिए उसने अपने बेटे को भेज दिया परन्तु उसे बताना भूल गया कि उसे किन किन श्लोकों का अर्थ राजा से सामने नहीं करना था. 

यूपी में बढ़ी कोरोना के मरीजों की संख्या, 3 हुए ठीक

मंडी प्रसाशन कोरोना से बेहाल, तंगी झेल रहा किसान

कोरोना: आखिर क्यों राज्यपाल लालजी टंडन ने चखा भोजन?