सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के भविष्य के लिए सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम

गवर्मेंट ने भारत के सूक्ष्म, लघु तथा मध्यम उद्यमों को भविष्य के लिए तैयार करने और भारत को एक प्रमुख निर्यातक बनाने की एक ठोस योजना तैयार करने के लिए पांच कार्यबलों का गठन किया है। एक टॉप गवर्मेंट ऑफिसर ने इसकी सुचना दी। एमएसएमई सेक्रेटरी एके शर्मा ने भरोसा जाहिर किया कि यह आगामी वर्ष के आरम्भ तक भविष्य की पहल को निर्धारित करने के मार्ग पर होगा। 

वही शर्मा ने इंडस्ट्री एवं वाणिज्य संगठन फिक्की के द्वारा ऑर्गनाइस एक आभासी सत्र में कहा, 'हमने पांच मुख्य कार्यबल का गठन किया है, जो हमारे प्रमुख अफसरों के नेतृत्व में होंगे। ये पांच कार्यबल ऐसे पांच प्रमुख इलाकों में एक माह के लिए काम करेंगे, जिनके बारे में हमें लगता है कि इंडियन इंडस्ट्री खास तौर पर एमएसएमई क्षेत्र को इन क्षेत्रों में आगे बढ़ना चाहिए।' साथ ही उन्होंने कहा कि पहचाने गए पांच स्थानों में से एक इंडस्ट्री 4.0 है, जिसमें कृत्रिम बुद्धिमत्ता, 3 डी तथा आभासी वास्तविकता (वर्चुअल रियलिटी) जैसे आयाम सम्मिलित हैं। इस कार्यबल का गठन देश को इंडस्ट्री 4.0 में वैश्विक अगुवा बनाने के लक्ष्य से किया गया है। 

सेक्रेटरी ने कहा, 'इस मिशन तथा लक्ष्य के साथ कार्यबल एक माह के लिए काम करेगा, विश्व की सर्वोत्तम प्रथाओं को अपनाएगा, एक्सपर्ट्स से राय प्राप्त करेगा तथा एक माह के अंदर ठोस योजना एवं कार्रवाई के बिंदुओं के साथ मंत्रालय के पास पहुंचेगा।' साथ ही अन्य कार्यबलों पर विवरण शेयर करते हुए उन्होंने कहा कि दूसरा क्षेत्र निर्यात संवर्धन तथा आयात में कमी है, जिसमें प्रमुख विनिर्माण स्थानों पर ध्यान केंद्रित करना तथा हमारे गुणवत्ता मानकों, डिजाइन एवं प्रौद्योगिकी और पैकेजिंग में सुधार करना सम्मिलित है। इसी के साथ ये कार्य देश कि आर्थिक स्थिति कि गति को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है।

शेयर बाजार में आई रिकवरी, 450 अंक मजबूत हुआ सेंसेक्स

पेट्रोल के भाव स्थिर, डीजल के दाम घटे, जानिए आज के रेट

शेयर बाजार में छाई खुशहाली, 358 अंक उछला सेंसेक्स

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -