सेना के वरिष्ठ रैंकिंग अधिकारी एक साथ यात्रा क्यों कर रहे थे?, बिपिन रावत के निधन पर बोले संजय राउत

सेना के वरिष्ठ रैंकिंग अधिकारी एक साथ यात्रा क्यों कर रहे थे?, बिपिन रावत के निधन पर बोले संजय राउत
Share:

मुंबई: हेलिकॉप्टर दुर्घटना में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत की मृत्यु के एक दिन बाद कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। हाल ही में शिवसेना ने एक बयान दिया है। जी दरअसल शिवसेना का कहना है कि, 'लोगों के मन में संदेह है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को इसे दूर करना चाहिए।' आपको बता दें कि इस मामले में उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिया जा चुके हैं। अब हाल ही में शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा, 'जनरल चीन और पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई की योजना बनाने में शामिल थे। जब तकनीकी रूप से उन्नत हेलीकॉप्टर में यात्रा करते समय ऐसी दुर्घटना होती है, तो यह संदेह पैदा करता है। बिपिन रावत के पास देश में हथियारों के आधुनिकीकरण की जिम्मेदारी थी। उन्होंने पाकिस्तान और चीन के खिलाफ मिशन में योगदान दिया। पुलवामा के बाद, लश्कर के खिलाफ कार्रवाई में एक महत्वपूर्ण योगदान था। जब तकनीकी रूप से उन्नत हेलीकॉप्टर में यात्रा करते समय ऐसी दुर्घटना होती है तो निश्चित रूप से सवाल उठते हैं। लोगों के मन में संदेह है। सरकार द्वारा जांच की जाएगी। लेकिन इन संदेहों को दूर करने की जिम्मेदारी प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री की है।'

इसी के साथ आगे उन्होंने कहा, 'दुर्घटना पर संदेह तब पैदा होता है जब भारत और चीन के बीच तनाव होता है। जब वह रक्षा समिति के सदस्य थे, तब उन्होंने जनरल रावत के साथ मिलकर काम किया था। जनरल रावत ने समिति के सदस्यों की समझ के लिए कई जटिल मुद्दों को सरल बनाया।दुर्घटना ने सरकार के साथ-साथ देश को भी हिलाकर रख दिया है।' आगे सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा, 'सेना के वरिष्ठ रैंकिंग अधिकारी एक साथ यात्रा क्यों कर रहे थे? 1952 में, पुंछ (जम्मू और कश्मीर) में सेना के अधिकारियों को ले जाने वाला एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। लेफ्टिनेंट जनरल और मेजर जनरल रैंक के लगभग पांच या छह अधिकारी थे। तब से, एक निर्देश था कि उस रैंक के अधिकारियों को एक साथ यात्रा नहीं करनी चाहिए। इस दुर्घटना में, जनरल साहब उच्च टैंकिंग अधिकारी थे और उनके जूनियर भी उनके साथ यात्रा कर रहे थे। यह एक बड़ा नुकसान है।'

इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा कि, 'अगर सदन में दुर्घटना पर चर्चा की अनुमति मिलती है, तो वे संसद में राष्ट्रीय सुरक्षा के इस मामले पर चर्चा करना चाहेंगे। यह एक तकनीकी रूप से उन्नत हेलीकॉप्टर था। इस घटना ने न केवल देश बल्कि सरकार को भी हिलाकर रख दिया है। अगर इस पर कोई चर्चा होती है, तो हम संसद में बोलेंगे। हमें उम्मीद है कि सरकार कम से कम इस मुद्दे पर चर्चा की अनुमति देगी। चीनो के साथ तनाव है। ऐसे समय में हो रही दुर्घटना को लेकर लोगों के मन में संदेह है।'

भीमा कोरेगांव मामला: 3 सालों बाद जेल में रिहा हुईं सुधा भारद्वाज

रायसी, इरदुगान ने द्विपक्षीय संबंधों में एक नए युग की शुरूआत करने का वादा किया

टीवी के इस मशहूर अभिनेता के घर आया नन्हा मेहमान

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -