आंध्र प्रदेश के निचले इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति, दो दिन तक शिक्षा संस्थानों को बंद रखने के आदेश

नई दिल्ली: बंगाल की खाड़ी में बने तूफान और डिप्रेशन के कारण आंध्र प्रदेश के कई तटीय जिलों में भारी वर्षा हो रही है. नेल्लूर, चित्तूर, कड़पा, जिलों में गुरुवार सुबह से भारी वर्षा हो रही है, कई निचले इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई हैं. दूसरे कई जिलों में भी वर्षा हो रही है. डिप्रेशन का अधिक असर चित्तूर, कड़पा और नेल्लूर जिलों में देखने को मिला. इन जिलों के कई निचले इलाकों में जल भराव हो गया है, नदी नाले सब कुछ ऊफान पर चल रहे हैं. 

वहीं, कई सड़कों में भी पानी भर गया है, कई इलाकों में पानी की तेज बहाव के कारण सड़कें कट गई है, जिसकी वजह से लोगों की आवाजाही में काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. चित्तूर जिले के कलेक्टर ने सभी शिक्षा संस्थानों को 18 और 19 तारीख को बंद रखने का ऐलान किया है. तिरुपति शहर में लोगों को घरों से बाहर न निकलने की सलाह दी गई है. सभी अधिकारियों को सतर्क रहने के लिए कहा गया है. तिरुपति हवाई अड्डे में भारी बारिश के कारण विमानों को उतरने में समस्या हो रही है.

तिरुपति शहर में कई सालों के बाद इतनी अधिक बारिश हुई है, तिरुमला के पर्वतों से पानी की तेज बहाव को देख सकते हैं, जैसे मानों बादल फट गया हो. पहाड़ों से भारी मात्रा में बारिश का पानी कपिल तीर्थम मंदिर के पास बहता हुआ नज़र आया. जहां से भारी मात्रा में बाढ़ का पानी तिरुपति शहर के भीतर प्रवेश कर रहा है. तिरुपति के कई इलाकों में लोगों के घरों में पानी घुस गया है, गलियों से पानी का तेज बहाव देखा जा सकता है, शहर के सड़कों में भी पानी जमा हो गया है, पानी के तेज बहाव में कुछ गाड़ियां भी बहती हुई नज़र आई.

जारी हुए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए अपने शहर का भाव

दुनियाभर में 110 देश भारत सहित टीकाकरण का प्रमाणपत्र देने के लिए राजी

आज 9 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे PM मोदी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -