इस फिल्म ने बदली थी फिरोज खान की किस्मत

बॉलीवुड फिल्मों के मशहूर एक्टर तथा मेकर-डायरेक्टर फिरोज खान को बॉलीवुड की ऐसी शख्सियत के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने फिल्म निर्माण को खास शैली दी। उनका जन्म आज ही दिन मतलब 25 सितंबर 1939 को बंगलूरू में हुआ था। उन्होंने बंगलूरू के बिशप काटन ब्वॉयज स्कूल तथा सेंट जर्मन ब्वॉयज हाई स्कूल से अध्ययन किया तथा मुंबई आकर एक्टिंग की दुनिया में अपनी किस्मत आजमाई। 

वर्ष 1960 में फिल्म दीदी में उन्हें प्रथम बार एक्टिंग करने का अवसर प्राप्त हुआ। इस मूवी में वह को-आर्टिस्ट थे। तत्पश्चात, अगले पांच वर्ष तक अधिकांश फिल्मों में उन्हें  को-आर्टिस्ट का ही किरदार प्राप्त हुआ। वह वर्ष 1962 में अंग्रेजी भाषा की फिल्म 'टार्जन गोज टू इंडिया' में दिखाई दिए थे। इस मूवी में उनके साथ एक्ट्रेस सिमी ग्रेवाल मुख्य किरदार में थीं। फिरोज खान द्वारा निर्मित फिल्मों पर नजर डालें तो उनकी फिल्में बड़े बजट की हुआ करती थीं। जिनमें बड़े आकर्षक तथा विशाल सेट, खूबसूरत लोकशन, दिल को छू लेने वाला गीत-संगीत तथा उम्दा तकनीक देखने को मिलती थी। 

वही एक्टर के रूप में भी फिरोज खान ने बालीवुड के नायक की परपंरागत छवि के विपरीत अपनी एक अलग और विशेष शैली गढ़ी जो आकर्षक तथा तड़क-भड़क वाली थी। उनकी काउब्वॉय वाली छवि प्रशंसकों के मन में हमेशा के लिए बस गई। वर्ष 1965, फिरोज खान के फिल्मी करियर की लिए बहुत विशेष रहा। उन्हें फणी मजूमदार की मूवी 'ऊंचे लोग' में काम करने का अवसर प्राप्त हुआ। इस फिल्म में फिरोज खान के साथ अशोक कुमार और राजकुमार समेत कई दिग्गज स्टार्स मुख्य किरदार में थे मगर अपने बेहतरीन अभिनय से वह दर्शकों में अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे। 

कोरोना के कारण लगान की इस मशहूर अभिनेत्री का हुआ बुरा हाल, 11 साल से हैं बेरोजगार

'भूत पुलिस 2' का हिस्सा होंगी करीना कपूर, अर्जुन ने इशारों में किया खुलासा

बिपाशा ने खोले फिल्म इंडस्ट्री के राज, कहा- 'यहां सच बोलना गुनाह है'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -