बेटे के परीक्षा में पास होने पर पिता नाराज, जानिए क्या है मामला

Apr 17 2018 04:01 PM
बेटे के परीक्षा में पास होने पर पिता नाराज, जानिए क्या है मामला

इस दुनिया के हर पिता का ये सपना होता है कि उसका बेटा अच्छे से पास हो जाए और अगली कक्षा में पहुंच जाए. आपने कभी ऐसा सुना है कि बेटे के पास होने पर पिता को आपत्ति हो. राज्य के बलरामपुर में एक अनोखा मामला सामने आया है. यहां रहने वाले एक पिता सुखलाल नागवंशी तब नारज हो गए जब उनका बेटा पांचवी कक्षा में पास हो गया. 

दरसअल पिता का ये कहना था कि उनके बेटे को कुछ भी लिखना नहीं आता है तो वो पास कैसे हो गया. इसी बात को लेकर पिता ने बाल कल्याण समिति में शिकायत कर दी. इसके बाद शिक्षा अधिकारियों ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर निर्देश जारी किए हैं कि निर्धारित लर्निंग आउटकम होने पर ही बच्चों को पूर्णता प्रमाण पत्र जारी किए जाएं. शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू होने के बाद पहली से पांचवीं तक किसी बच्चे को फेल नहीं किया जा सकता है, लेकिन इस तरह पूर्णता प्रमाण पत्र देना गलत है

बाल कल्याण समिति ने इस मामले पर संज्ञान लेते हुए शिक्षा अधिकारियों को पूछा है कि बालक कक्षा पांचवीं पास है, लेकिन वह हस्ताक्षर करने में भी असमर्थ है और समिति के समक्ष भी बच्चे ने अंगूठा  लगाया है. बच्चे को कभी पढ़ाया नहीं गया. बच्चा नाम नहीं लिख पाता. इसके लिए जिम्मेदार कौन है.

भारत की संस्कृति को जानने के लिए ब्रज आई ये हॉलीवुड एक्ट्रेस

स्कूल बस हादसा : भाजपा के बाद कांग्रेस ने जाना बच्चों का हाल

ज़मीन के नीचे मौजूद हैं ये खूबसूरत शहर

 

?