FATF से पाकिस्तान को राहत, तीन देश बने तारणहार

Jun 21 2019 11:34 AM
FATF से पाकिस्तान को राहत, तीन देश बने तारणहार

इस्लामाबाद: पाकिस्तान आतंकी संगठनों के फंडिंग पर निगरानी रखने वाली वैश्विक संस्था फाइनेंशियल ऐक्शन टास्क फोर्स (FATF) के तीन सदस्य देशों से समर्थन प्राप्त करने के बाद ब्लैकलिस्ट होने से बच सकता है. हालांकि, ये संकट अभी तक पूरी तरह टला नहीं है. पाकिस्तान FATF के सदस्य देशों से समर्थन के लिए लगातार कूटनीतिक प्रयास कर रहा था, जिसके बाद इस्लामाबाद को फिलहाल राहत मिल गई है और वह ग्रे लिस्ट से ब्लैकलिस्ट में पहुंचने से बच गया.

पाकिस्तान FATF के सदस्य देशों तुर्की, चीन और मलेशिया से समर्थन लेने में सफल रहा. FATF चार्टर के तहत, ब्लैकलिस्टिंग से बचने के लिए कम से कम तीन सदस्य देशों का समर्थन मिलना आवश्यक है. भले ही इमरान सरकार को इससे थोड़ी राहत मिली हो, किन्तु कूटनीतिक सूत्रों का कहना है कि खतरा अभी पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है क्योंकि संस्था इस वर्ष अक्टूबर में आधिकारिक तौर पर अपना फैसला सुनाएगी.

दुनिया भर में मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी संगठनों की फंडिंग पर निगरानी करने वाली संस्था FATF के रडार में इस्लामाबाद जून 2018 से ही है. एशिया-पैसेफिक ग्रुप (एपीजी) ने पाकिस्तान की आर्थिक व्यवस्था और सुरक्षा स्थिति का मूल्यांकन करने के बाद आतंकी संगठनों के वित्त पोषण और मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर खतरे को उजागर किया था. एशिया-पैसेफिक की रिपोर्ट के बाद FATF ने पाक को ग्रे लिस्ट में डाल दिया था.

World Music Day: संगीत का है स्वास्थ से अटूट संबंध, जानिए कैसे रखता है मन को प्रसन्न

बिहार सरकार के कई मंत्री योगाभ्यास में फेल, केवल शवासन ही कर पाए

कांग्रेस नेता की शिकायत पर भाजपा विदायक का बेटा गिरफ्तार, ये है मामला