86 की उम्र में मशहूर फोटोग्राफर नेमाई घोष का हुआ निधन

86 की उम्र में मशहूर फोटोग्राफर नेमाई घोष का हुआ निधन

बुधवार को सत्यजीत रे के 25 साल के आधिकारिक फोटोग्राफर नेमाई घोष ने 86 साल की उम्र में कोलकाता में अंतिम सांस ली. रे के साथ निमाई घोष का जुड़ाव 'गोपी गाइन बागे बाइट' (1969) के दौरान शुरू हुआ था.   वह 'अग्नटुक' (1991) तक मास्टर फ़िल्म निर्माता के ऑन-सेट फ़ोटोग्राफ़र रहे थे. उत्पल दत्ता, शर्मिला टैगोर और स्मिता पाटिल जैसे दिग्गज सितारों के प्रतिष्ठित छापों को कैप्चर करने के अलावा नेमाई घोष को बंगाल के थिएटर इतिहास के एक प्रसिद्ध क्रॉसर के रूप में भी जाना जाता था.  

उन्होंने पूरे भारत में जनजातीय जीवन का दस्तावेजीकरण करने के लिए बड़े पैमाने पर अपने कैमरावर्क किए. इस दिग्गज लेंसमैन ने: ड्रामैटिक मोमेंट्स: फोटोग्राफ्स ’और मेमोरियल ऑफ़ कलकत्ता थिएटर ऑफ द सिक्सटीज़ टू द नाइनटीज़’, द वर्ल्ड ऑन ए कैनवस ’और माणिक दा: मेमोरीज ऑफ सत्यजीत रे’ जैसी किताबें लिखीं हैं.

उन्होने 2007 में राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के लिए जूरी सदस्य के रूप में भी काम किया था और उनकी असाधारण उपलब्धियों के लिए उन्हें 2010 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था. साल 2014 में उनके फोटोबुक 'कोलकाता' को अमिताभ बच्चन ने प्रकाशित किया था.

ग्रामीण बैंकों को मिला बड़ा तोहफा, इस प्रस्ताव को कैबिनेट समिति ने दी मंजूरी

इस वजह से पान मसाले के उत्पादन पर लगा बैन

कोरोना वायरस : लॉकडाउन के बाद सरकार देने वाली है एक और झटका