यहां हर घर के बाहर है लड़कियों के नामों की नेमप्लेट !

नई दिल्ली। कई जगहों से बेटियों को मारे जाने की खबर से मन हतोत्साहित सा हो जाता है, लेकिन इसी बीच छतीसगढ़ से आई यह खबर सुकून देने वाली है। छतीसगढ़ के कुछ गांव में पीएम की बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ मुहिम की सोच को साकार करने में लगे है। लोगों ने घर के बाहर जो नेमप्लेट लगाई है, उस पर बेटियों के नाम लिखे है।

यह मुहिम स्थानीय प्रशासन द्वारा शुरु की गई है। इसका मकसद लड़कियों की शिक्षा एवं समाज में उनकी पहचान को सशक्त किया जा सके। यह मुहिम बालोद जिले के गांवो में चलाई जा रही है। डेढ़ माह पहले ही शुरु हुए इस पहल वाले जिले में माओवाद आंशिक रुप से प्रभावी था। बालोद के कलेक्टर राजेश सिंह राणा ने बताया कि लोगों को बच्चियों के महत्व के बारे में जागरूक करने के लिए और लड़कियों में साक्षरता बढ़ाने के लिए यह मुहिम शुरू की गई है।

उन्होंने कहा कि बालोद के विभिन्न गांवों में विभिन्न आयु वर्ग की करीब 2,700 लड़कियों के नाम की पट्टियां उनके घरों के बाहर लगाई गई हैं। राणा ने बताया कि स्थानीय जन प्रतिनिधियों, सरपंच एवं अधिकारियों के साथ बातचीत के बाद इस मुहिम की सोच को साकार किया गया। उन्होंने कहा कि कम अवधि में ही इस मुहिम के 12 ग्राम पंचायतों में सफल परिणाम देखने को मिले हैं।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -