बकरीद पर कुर्बानी देने से पहले जान ले ये जरुरी नियम

मुस्लिम धर्म में ईद का पर्व बेहद विशेष माना जाता है। वर्ष में ईद दो बार आती है, एक बार मीठी ईद तथा इसके पश्चात् बकरीद। मीठी ईद को Eid-ul-Fitr बोला जाता है, जबकि बकरीद को बकरा ईद, Eid-Ul-Zuha या Eid al-Adha बोला जाता है। रमजान के पश्चात् मीठी ईद मनाई जाती है जिसमें सेवइयां खाने का चलन है, जबकि बकरीद पर बकरे की बलि दी जाती है। वही इस बार बकरीद 2021 20 या 21 जुलाई 2021 मतलब मंगलवार/बुधवार को पड़ेगी। ये संभावित दिनांक है क्योंकि वास्तविक दिनांक की घोषणा Eid al-Adha का चांद दिखने के पश्चात् ही होगा। बकरीद को विश्वभर में मुस्लिम धर्म को मानने वाले लोग मनाते हैं। बकरीद में भी लोग मीठी ईद की प्रकार प्रातः नमाज अदा करते हैं, इसके पश्चात् आपस में गले मिलकर एक दूसरे को ईद की शुभकामनाएं देते हैं। आइये आपको बताते है इस दिन बकरे की क़ुरबानी का नियम।।। 

कुर्बानी के हैं ये नियम:-
बकरीद पर कुर्बानी के लिए भी कुछ नियम हैं। इस दिन बकरे के अतिरिक्त ऊंट या भेड़ की भी कुर्बानी दी जा सकती है। उस पशु को कुर्बान नहीं किया जा सकता जिसको कोई शारीरिक रोग अथवा भैंगापन हो, जिसके शरीर का कोई भाग टूटा हो। शारीरिक तौर पर दुर्बल जानवर की भी कुर्बानी नहीं दी जा सकती, इसीलिए बकरीद से पूर्व ही जानवर को खिला पिलाकर हष्ट पुष्ट किया जाता है। कम-से-कम जानवर की आयु एक वर्ष होनी चाहिए।

कुर्बानी के बाद गोश्त के होते हैं तीन भाग:-
बकरीद पर कुर्बानी हमेशा ईद की नमाज अदा करने के पश्चात् ही की जाती है। इस के चलते बलि किए गए बकरे के गोश्त के तीन भाग किए जाते हैं। एक हिस्सा स्वयं के परिवार के लिए, दूसरा भाग सगे संबंधियों तथा मित्रों के लिए और तीसरा भाग जरूरतमंद व्यक्तियों के लिए रखा जाता है। कई लोग इस अवसर पर दान पुण्य भी करते हैं।

कुंडली में बैठे हैं शनि तो शनिवार के दिन अवश्य करें ये उपाय करें

क्या आपकी कुंडली में भी है पितृ दोष? तो अमावस्या के दिन जरूर लगाएं ये पौधे, मिलेगी राहत

भारत के 74% मुस्लिम चाहते हैं शरिया कोर्ट, 'अमेरिकी थिंक टैंक' के सर्वे में हुए कई बड़े खुलासे

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -