Share:
ऑनलाइन स्कैम में न फंसें, 5 तरीकों से करें पहचान
ऑनलाइन स्कैम में न फंसें, 5 तरीकों से करें पहचान

तेजी से बढ़ती डिजिटल दुनिया में, ऑनलाइन घोटाले तेजी से परिष्कृत हो गए हैं, जिससे व्यक्तियों के लिए सतर्क रहना महत्वपूर्ण हो गया है। खुद को घोटालों से बचाना न केवल आपके वित्त को सुरक्षित करने के बारे में है, बल्कि आपकी व्यक्तिगत जानकारी को सुरक्षित रखने के बारे में भी है। ऑनलाइन घोटालों को पहचानने और उनका शिकार होने से बचने में आपकी मदद करने के लिए यहां पांच प्रमुख रणनीतियां दी गई हैं।

1. फ़िशिंग प्रयासों को पहचानना

संवेदनशील जानकारी तक पहुंच हासिल करने के लिए फ़िशिंग घोटालेबाजों के लिए एक प्रचलित तरीका बना हुआ है। व्यक्तिगत या वित्तीय विवरण का अनुरोध करने वाले अनचाहे ईमेल, संदेश या पॉप-अप विज्ञापनों से सावधान रहें। वैध संगठन शायद ही कभी इन चैनलों के माध्यम से ऐसी जानकारी मांगते हैं।

उदाहरण:

  • ईमेल: प्रेषक का पता जांचें। वैध कंपनियाँ आधिकारिक डोमेन का उपयोग करती हैं, संदिग्ध विविधताओं का नहीं।

2. वेबसाइट की प्रामाणिकता की पुष्टि करना

किसी वेबसाइट पर कोई भी व्यक्तिगत जानकारी प्रदान करने से पहले उसकी वैधता सुनिश्चित कर लें। घोटालेबाज अक्सर नकली वेबसाइटें बनाते हैं जो प्रतिष्ठित वेबसाइटों की नकल करती हैं। सुरक्षित वेबसाइट संकेतक जैसे "https://" और एड्रेस बार में एक पैडलॉक आइकन देखें।

उदाहरण:

  • यूआरएल निरीक्षण: गलत वर्तनी या असामान्य वर्णों के लिए यूआरएल की जांच करें।

3. कंपनियों से संचार को प्रमाणित करना

घोटालेबाज अक्सर व्यक्तियों को धोखा देने के लिए प्रसिद्ध कंपनियों का प्रतिरूपण करते हैं। आधिकारिक चैनलों के माध्यम से सीधे कंपनी से संपर्क करके संचार की वैधता सत्यापित करें। संदिग्ध संदेशों में दी गई संपर्क जानकारी का उपयोग करने से बचें।

उदाहरण:

  • फ़ोन कॉल: कॉल की वैधता की पुष्टि करने के लिए आधिकारिक संपर्क नंबर का उपयोग करके कंपनी को कॉल करें और कॉल करें।

4. पैसे के लिए असामान्य अनुरोधों की निगरानी करना

ऑनलाइन घोटालेबाज अक्सर व्यक्तियों को पैसे भेजने में हेरफेर करने के लिए विस्तृत कहानियां गढ़ते हैं। धन के लिए अचानक अनुरोधों पर संदेह करें, खासकर यदि उनमें तात्कालिकता या भावनात्मक हेरफेर शामिल हो।

उदाहरण:

  • पारिवारिक आपातकालीन घोटाले: पैसे भेजने से पहले परिवार के अन्य सदस्यों के साथ स्थिति की पुष्टि करें।

5. सॉफ्टवेयर एवं सुरक्षा उपायों को अद्यतन रखना

पुराना सॉफ़्टवेयर आपको उन कमजोरियों से अवगत करा सकता है जिनका घोटालेबाज फायदा उठाते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके पास नवीनतम सुरक्षा पैच हैं, अपने ऑपरेटिंग सिस्टम, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर और अन्य एप्लिकेशन को नियमित रूप से अपडेट करें।

उदाहरण:

  • स्वचालित अपडेट: निरंतर सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सॉफ़्टवेयर के लिए स्वचालित अपडेट सक्षम करें।

सतर्क रहें, सुरक्षित रहें

ऑनलाइन घोटालों के लगातार विकसित हो रहे परिदृश्य में, सूचित रहना और सतर्क दृष्टिकोण अपनाना सर्वोपरि है। इन पांच रणनीतियों को लागू करके, आप घोटालों का शिकार होने के जोखिम को काफी कम कर सकते हैं और अपनी व्यक्तिगत जानकारी और वित्त दोनों की रक्षा कर सकते हैं। याद रखें, ऑनलाइन घोटालेबाज लगातार बने रहते हैं, लेकिन जागरूकता और सतर्कता से आप उनकी भ्रामक रणनीति को मात दे सकते हैं।

वर्ल्ड कप फाइनल वाले दिन दिल्ली में 'ड्राई डे' क्यों ? सभी शराब दुकानें बंद रखने के आदेश

फाइनल मुकाबले से पहले कोहली का मुरीद हुआ ये ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज, तारीफ में कह डाली बड़ी बात

यदि ऐसा हुआ तो भारत-ऑस्ट्रेलिया दोनों बन जाएंगे वर्ल्ड चैंपियन, जानिए क्या हैं ICC के नियम ?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -