दिग्विजय फंसे अपने द्वारा 13 साल पहले किये गए फर्जीवाड़े में

Feb 27 2016 08:14 AM
दिग्विजय फंसे अपने द्वारा 13 साल पहले किये गए फर्जीवाड़े में

भोपाल: अपने दस साल के कार्यकाल के बीच फर्जी भर्तिया करने के आरोप में मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय के खिलाफ वारंट जारी हुआ है। साथ ही दिग्विजय के अलावा 7 अन्य लोगो के खिलाफ भी चालान जारी किया गया है। ये चालान जिला कोर्ट में लोकायुक्त के स्पेशल जज काशीनाथ सिंह की अदालत में पेश किये गए। विधानसभा सचिवालय में फर्जी भर्तियो के मामले में पिछले साल मामला दर्ज किया था।

दिग्विजय पर आरोप लगे है कि उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान सचिवालय में अपने रिश्तेदारों तथा नजदीकियों को नियम के बाहर भर्ती करवाया था। साथ ही इनको फर्जी तरीके से ही प्रमोशन भी दिलवाया। यह मुद्दा विधान सभा में भी उठाया गया था। तथा पुलिस ने 27 फरवरी 2015 को इसी मामले में एफआईआर दर्ज कर दिग्विजय समेत 19 लोगों को आरोपी बनाया था।

जिन आठ लोगो के खिलाफ चालान जारी किया गया है इनके नाम क्रमशः दिग्विजय सिंह, सुषमा द्वेदी, कुलदीप पांडे, केके कौशल, अशोक चतुर्वेदी, एके त्यागी, रमाशंकर मिश्रा, योगेश मिश्रा है। इनमे से दिग्विजय सिंह को शुक्रवार की सुनवाई के दौरान जिला कोर्ट में मौजूद होना था लेकिन वे नहीं आए इसलिए अब उन्हें अपनी जमानत कोर्ट में बांड भरकर लेनी होगी। प्रेस से बातचीत के दौरान उनका कहना था कि यदि मध्यप्रदेश कि पुलिस चाहे तो उन्हें गिरफ्तार कर सकती है।