टर्मिनेशन चार्ज के मुद्दे पर टेलीकॉम ऑपरेटरों के बीच उभरे मतभेद

नई दिल्ली : कॉल समाप्ति यानी टर्मिनेशन चार्ज के मुद्दे पर टेलीकॉम ऑपरेटरों के बीच मतभेद उभर कर सामने आए हैं. इस मामले में टेलीकॉम ऑपरेटर दो धड़ों में बँट गए हैं. एक धड़े का नेतृत्व अंबानी बंधु कर रहे हैं, तो दूसरे धड़े में सुनील मित्तल जैसे ऑपरेटर शामिल हैं. अंबानी बंधुओं ने जहाँ लेवी का विरोध किया है, वहीँ भारती एयरटेल आदि ऑपरेटर भारती एयरटेल जैसे ऑपरेटर इसे ग्रामीण क्षेत्रों में निवेश को प्रोत्साहन देने के लिए जरुरी बता रहे हैं.

गौरतलब है कि इंटरकनेक्शन उपयोग शुल्कों की समीक्षा बैठक में ट्राई के समक्ष केश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस जियो, अनिल अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशंस और वीडियोकॉन ने दूरसंचार क्षेत्र की नियामक संस्था से कहा कि वह कॉल समाप्ति शुल्क को खत्म करे. उनकी दलील थी कि इससे फोन कॉल की दरें उपभोक्ताओं के लिए महंगी हो जाती हैं और नई प्रौद्योगिकियों के आने से परिचालन की लागत में कमी आ रही है.

वहीँ दूसरी ओर सुनील भारती मित्तल की अगुवाई वाली भारती एयरटेल, आदित्य बिड़ला समूह की कंपनी आयडिया और ब्रिटिश टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन की भारतीय शाखा ने कॉल समाप्ति शुल्क लगाने की वकालत की है, ताकि देश, खासकर ग्रामीण इलाकों में जहां लोग कम खर्च करते हैं, में निवेश को बढ़ावा मिले.

एयरटेल और जियो में आईफोन को लेकर भी चल रही हे जंग

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -