रंगराजन बोले: नोट बन्द करना कालाधन खत्म करने का मानक नुस्खा

नई दिल्ली : जहां एक ओर विपक्षी पीएम मोदी के नोट बदलने के फैसले की आलोचना कर उन पर हमला कर रहे हैं, वहीं रिजर्व बैंक आॅफ इंडिया के पूर्व गवर्नर एवं अर्थशास्त्री सी रंगराजन ने 500 और 1000 रुपये के नोटों को बंद करने के सरकार के निर्णय का स्वागत कर इसे अच्छा कदम बताया है.

पिछली सरकार में प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के चेयरमैन रहे रंगराजन ने कहा कि कालाधन खत्म करने का यह एक 'मानक नुस्खा'है. उन्होंने कहा कि पहले भी इसको आजमाया गया है, पर इस दिशा में कालेधन को रोकने के लिए भविष्य में और भी कदम उठाने होंगे.

नोट बन्दी के इस मामले को और अधिक स्पष्ट करते हुए रंगराजन ने कहा कि इस सरकार ने इस बार तीन लक्ष्य रखें हैं. इस बार निशाने पर एक तो वे हैं जिन्होंने ने बेहिसाब पैसा दबा रखा है, दूसरे जो जाली नोट चलाते हैं तीसरे आतंकवादियों के लिए धन पहुंचाने वाले हैं. इसमें दूसरे और तीसरे नंबर वाले अलग तरह के हैं. दरअसल सरकार का यह कदम नोटों के रूप में दबाए गए काले धन से निपटने के लिए है. भविष्य में कालेधन के रूप में नोट जमा करने पर रोक का कोई प्रबंध नहीं होने का जिक्र भी किया.

जापान से PM मोदी की दहाड़, एक-एक रूपये का हिसाब लूंगा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -