उज्जैन से उठी पत्रकारों की सुरक्षा के लिये कानून बनाने की मांग

उज्जैन। भूत भावन भगवान महाकाल की नगरी उज्जैन से शनिवार को पत्रकारों की सुरक्षा के लिये कानून बनाने की मांग उठी। नेशनल मीडिया फाउंडेशन नई दिल्ली और प्रेस क्लब उज्जैन के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को प्रेस क्लब भवन में परिचर्चा का आयोजन कर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम एक ज्ञापन प्रशासकीय अधिकारी को सौंपा गया।

प्रेस क्लब भवन में शनिवार को नेशनल मीडिया फाउंडेशन की तरफ से परिचर्चा का आयोजन किया गया। प्रेस क्लब उज्जैन के सहयोग से आयोजित इस परिचर्चा में विभिन्न वक्ताओं ने यह कहा कि आज देश भर में पत्रकारों पर हमले हो रहे है तथा पुलिस द्वारा झूठे मुकदमें दर्ज कर पत्रकारों को प्रताड़ित किया जा रहा है। चुंकि पत्रकार समाज का सजग प्रहरी ही नहीं बल्कि लोकतंत्र का चैथा स्तम्भ भी माना गया है, इसलिये प्राथमिक तौर पर पत्रकारों की सुरक्षा की गारंटी सरकार को लेना होगी और इसके लिये पूरे देश में पत्रकारों की सुरक्षा के लिये एक समान कानून बनाने की जरूरत है।

परिचर्चा के दौरान फाउंडेशन के अखिल भारतीय अध्यक्ष राजेन्द्र जैन के अलावा शहर के वरिष्ठ पत्रकार अनिल चंदेल, शैलेन्द्र कुलमी, रमेश दास, सुनील जैन के साथ ही जय श्रीवास्तव और संत श्री बालयोगी उमेशनाथ महाराज ने भी संबोधित किया। इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष और कांग्रेस नेता महेश परमार ने भी सुरक्षा कानून के लिये कांग्रेस की तरफ  से मांग रखने की बात कही गई। परिचर्चा के बाद वाहन रैली के माध्यम से पत्रकारों ने कोठी पैलस पर पहुंचकर ज्ञापन सौंपा। इसके पूर्व परिचर्चा कार्यक्रम में अतिथि वक्ताओं का स्वागत भी किया गया। संचालन विशालसिंह हाड़ा ने किया। 

पत्रकार बनने के बाद सोनाक्षी अपने पिता से पूछती यह सवाल

इंटरव्यू के दौरान गुस्से में रिपोर्टर पर तमतमाई अक्षरा हासन....

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -