लॉकडाउन: प्रवासी श्रमिकों के लिए शेल्टर होम्स में तब्दील किए गए स्कूल, खाने-पीने का मुफ्त बंदोबस्त

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते देश में हुए लॉकडाउन के बाद काम और घर न होने की वजह से गरीब, मजदूर पैदल ही अपने घर को निकल चुके हैं। इन मजदूरों के लिए दिल्ली सरकार ने रहने खाने का बंदोबस्त कर दिया है। दिल्ली के पटपड़गंज और गाजीपुर के स्कूल की तस्वीरें प्रकाश में आईं है जहां स्कूल के क्लासरूम को शेल्टर होम में तब्दील कर दिया गया है साथ ही खाने का भी प्रबंध किया गया है।

दिल्ली में रह रहे प्रवासियों के लिए ये शेल्टर होम बनाया गया है, अब वे लोग लॉकडाउन तक यहां रह सकते हैं। उल्लेखनीय है कि दिल्ली में रह रहे प्रवासियों की तादाद काफी ज्यादा है। और लॉकडाउन होने के चलते उन्हें अपने घर जाने पर विवश होना पड़ा लाखों की संख्या में लोग अपने घर की तरफ पैदल ही चल पड़े। कई गरीब भूख  से ही मर गए। इसके साथ ही एक साथ इतने सारे लोगों होने के चलते सोशल डिसटेंसिंग का भी उलंघन किया गया। जिससे कोरोना का खतरा अधिक बढ़ जाता है।

दिल्ली सरकार ने कई स्कूलों को शेल्टर होम में तब्दील करने का कार्य  किया है। इसके साथ ही रहने के साथ खाने और हेल्थ सेवाओं का भी बंदोबस्त किया है। पूरे देश में सरकार पुलिस अपना काम कर रही है। किन्तु कोरोना वाययस के कारण लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कोरोना महामारी कबतक थमेगी ये अभी भी एक सवाल ही है।

कोरोना प्रकोप के कारण जल्द बंद हो सकती है सभी मस्जिदे

लॉकडाउन के दौरान कंडोम की बिक्री बढ़ी, बाज़ार में हुई किल्लत

विदेशी मुद्रा भंडार पर 'कोरोना' का असर, आई 12 साल की सबसे बड़ी गिरावट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -